Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2023 · 1 min read

आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ

शेर- तुमको अपना तो कहे, लेकिन अपनों में क्या कहे।
तुमको अपना हमदर्द कहे, या तुमको फिर बेदर्द कहे।।
—————————————————– आये हो मिलने तुम, जब ऐसा हुआ।
मरघट को जनाजा, रवाना हुआ।।
आये हो मिलने तुम—————–।।

कुछ ही फासले पर , तुम रहते थे।
तुमको जानेजिगर, हम कहते थे।।
चेहरा तुमने दिखाया, जब ऐसा हुआ।
जब जलकर चिता में, खाक हुआ।।
आये हो मिलने तुम—————–।।
——————————————————–
शेर- ऐसे भी आये थे मिलने, जिनको दुश्मन हम कहते थे।
देते थे जिनको बददुआ, देखना पसंद नहीं करते थे।।
——————————————————–
खबर तुमने सुनी,तुम फुरसत में थे।
हमसे कह दिया,तुम मजलिस में थे।।
याद आया तुम्हें, जब ऐसा हुआ।
इस दुनिया से जब , अलविदा हुआ।।
आये हो मिलने तुम—————–।।
—————————————————–
शेर- बहुत महशूर हो तुम, गुमनाम हम भी नहीं।
पूछते हैं हमको भी लोग, बदनाम हम भी नहीं।।
——————————————————
दौलतवाले हो तुम, क्यों जमीं देखोगे।
हम यतीम-मुफलिसों से, क्यों मिलोगे।।
तुम्हें आई शर्म, जब ऐसा हुआ।
हाल तुम्हारा जब , मेरे जैसा हुआ।।
आये हो मिलने तुम—————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ साहित्यकार-
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
बहादुर बेटियाँ
बहादुर बेटियाँ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मुस्कान
मुस्कान
Surya Barman
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
नित्य करते जो व्यायाम ,
नित्य करते जो व्यायाम ,
Kumud Srivastava
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*इस बरस*
*इस बरस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
पूर्वार्थ
घट -घट में बसे राम
घट -घट में बसे राम
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
चंदा मामा से मिलने गए ,
चंदा मामा से मिलने गए ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
जीवन है मेरा
जीवन है मेरा
Dr fauzia Naseem shad
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
राजयोग आलस्य का,
राजयोग आलस्य का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हर एकपल तेरी दया से माँ
हर एकपल तेरी दया से माँ
Basant Bhagawan Roy
"गाय"
Dr. Kishan tandon kranti
करुंगा अब मैं वही, मुझको पसंद जो होगा
करुंगा अब मैं वही, मुझको पसंद जो होगा
gurudeenverma198
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*जो कुछ तुमने दिया प्रभो, सौ-सौ आभार तुम्हारा(भक्ति-गीत)*
*जो कुछ तुमने दिया प्रभो, सौ-सौ आभार तुम्हारा(भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
कवि रमेशराज
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
Shweta Soni
3036.*पूर्णिका*
3036.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
Loading...