Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

आम का मौसम

आम का मौसम आ गया है….. आम को फलों का राजा कहा जाता है….. और सच भी है… क्योंकि इसके जादुई स्वाद के तिलिस्म से कौन सम्मोहित नहीं होता….. कभी आम के ऐसे ही मौसम में कुछ पंक्तियाँ बन गईं थीं…..

सुर्खाब की देखें सूरत ,
लोग दशहरी के दीवाने ।
सफेदा का रस अलबेला ,
चौसा चखे तोही मन माने ।
तोतापरी से शेक बनाए ,
हापुस देख के मन ना माने ।
देशी के दस बने अचार ,
फजली आते मन भरमाने ।
लंगड़ा भी तो होता अद्भुत,
स्वाद सुगंध में कोई ना सानी ।
पर मेरे मन भाता सर्वाधिक ,
लगे जो दूरी से ही महकाने ।
रस ऐसा कि रहता आतुर ,
उंगलियों से छन बह जाने ।
मीठा इतना शहद सरीखा ,
श्वाद गजब है हम ये जाने ।
गुलाब जामुन भी किस्म आम की,
किसको राजा बोलो हम मानें ।

@दीपक कुमार श्रीवास्तव ‘नील पदम’

Language: Hindi
6 Likes · 3 Comments · 1360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
surenderpal vaidya
😊 लघु कथा :--
😊 लघु कथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
मछली रानी
मछली रानी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दुनिया में कहीं से,बस इंसान लाना
दुनिया में कहीं से,बस इंसान लाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रयास जारी रखें
प्रयास जारी रखें
Mahender Singh
*BOOKS*
*BOOKS*
Poonam Matia
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
नमन उस वीर को शत-शत...
नमन उस वीर को शत-शत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
"चालाकी"
Ekta chitrangini
"सफर अधूरा है"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
Dr.Priya Soni Khare
अकेलापन
अकेलापन
लक्ष्मी सिंह
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
पास नहीं
पास नहीं
Pratibha Pandey
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
चले न कोई साथ जब,
चले न कोई साथ जब,
sushil sarna
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ঈশ্বর কে
ঈশ্বর কে
Otteri Selvakumar
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
"मन की संवेदनाएं: जीवन यात्रा का परिदृश्य"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...