Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2023 · 1 min read

आम आदमी

बस इंसान हूँ मैं।
मैं जैन, सिख,ईसाई
हिन्दू और मुसलमान हूँ मैं।
वैसे मैं और कुछ भी नहीं
बस सिर्फ इंसान हूँ मैं।

बाईबल भी मैंने लिखा,
लिखा भी कुरान है।
मेरी रामायण,गीता में,
सब में एक ही भगवान है।
इन सब से ऊपर उठकर कैसे कहूँ?
कि भगवान हूँ मैं।
वैसे मैं और कुछ भी नहीं
बस सिर्फ इंसान हूँ मैं……….

मुझे लड़ना नहीं आता,
मुझे झगड़ना नहीं आता।
है सभी मेरे ही अपने,
चाहूँ इंसानियत का नाता।
मुझे खून नहीं बहाना अपनों का
सब की ही जान हूँ मैं।
वैसे मैं और कुछ भी नहीं
बस सिर्फ इंसान हूँ मैं………..

मस्जिद में लाशें बिखरी हुई है,
राम मंदिर में झगड़ा है।
मजहब तो पाँव पर खड़ा है
मगर अभी तक लंगड़ा है।
मैं ही दावानल बन जाता
सागर में शांत तूफान हूँ मैं।
वैसे मैं और कुछ भी नहीं
बस सिर्फ इंसान हूँ मैं……….

“ मुसाफिर ” तेरी दुनिया अजीब,
कविता में तेरी रोना है।
महफिल में बहरे है सारे,
असीम व्यथा तेरी खिलौना है।
आना जाना है यहाँ पर
अंतिम पड़ाव पर श्मशान हूँ मैं।
वैसे मैं और कुछ भी नहीं
बस सिर्फ इंसान हूँ मैं……..।।

रोहताश वर्मा “ मुसाफिर ”

Language: Hindi
1 Like · 254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न्याय के लिए
न्याय के लिए
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
दिल चाहे कितने भी,
दिल चाहे कितने भी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साक्षर महिला
साक्षर महिला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ पता नहीं इतनी सी बात स्वयम्भू विश्वगुरुओं को समझ में क्यों
■ पता नहीं इतनी सी बात स्वयम्भू विश्वगुरुओं को समझ में क्यों
*Author प्रणय प्रभात*
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
तैराक हम गहरे पानी के,
तैराक हम गहरे पानी के,
Aruna Dogra Sharma
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
नाथ सोनांचली
ज़िंदगी भी समझ में
ज़िंदगी भी समझ में
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम.......................................................
प्रेम.......................................................
Swara Kumari arya
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
अलबेला अब्र
अलबेला अब्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
Stop chasing people who are fine with losing you.
Stop chasing people who are fine with losing you.
पूर्वार्थ
ये काले बादलों से जैसे, आती रात क्या
ये काले बादलों से जैसे, आती रात क्या
Ravi Prakash
याराना
याराना
Skanda Joshi
दान किसे
दान किसे
Sanjay ' शून्य'
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
इश्क समंदर
इश्क समंदर
Neelam Sharma
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
अनिल अहिरवार"अबीर"
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
sushil sarna
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
"फितरत"
Dr. Kishan tandon kranti
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
23/103.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/103.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
कवि रमेशराज
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
Loading...