Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2022 · 1 min read

आम आदमी

ख़ुद की ही बनाई हुई चक्कियों में
पीसता रहा है आम आदमी!
ख़ुद के ही बनाए हुए दलदलों में
धंसता रहा है आम आदमी!!
जीनियस वही जो बाहर हो जाए
वक़्त रहते ही भेड़ चाल से!
ख़ुद की ही बनाई हुई जंजीरों में
फंसता रहा है आम आदमी!!
#गुलामी #मानसिक #विद्रोही #शायर
#rebel #sprit #Genius #talent

Language: Hindi
1 Like · 155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*शून्य से दहाई का सफ़र*
*शून्य से दहाई का सफ़र*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
हासिल-ए-ज़िंदगी फ़क़त,
हासिल-ए-ज़िंदगी फ़क़त,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कोई मुरव्वत नहीं
कोई मुरव्वत नहीं
Mamta Singh Devaa
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
व्यथा पेड़ की
व्यथा पेड़ की
विजय कुमार अग्रवाल
मेरा जीने का तरीका
मेरा जीने का तरीका
पूर्वार्थ
King of the 90s - Television
King of the 90s - Television
Bindesh kumar jha
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
Ab maine likhna band kar diya h,
Ab maine likhna band kar diya h,
Sakshi Tripathi
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
■ करोगे हड़बड़ तो होगी गड़बड़।।
■ करोगे हड़बड़ तो होगी गड़बड़।।
*प्रणय प्रभात*
3130.*पूर्णिका*
3130.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सदा से"
Dr. Kishan tandon kranti
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
अब तो रिहा कर दो अपने ख्यालों
अब तो रिहा कर दो अपने ख्यालों
शेखर सिंह
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
बचपन याद किसे ना आती ?
बचपन याद किसे ना आती ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
जवाला
जवाला
भरत कुमार सोलंकी
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
आजकल गजब का खेल चल रहा है
आजकल गजब का खेल चल रहा है
Harminder Kaur
Loading...