Aug 31, 2016 · 1 min read

आप में हे क्या आप खुद् बेखबर हैं

आपकी सादगी ही आपका हुनर है
आपके ख्याल ही आपकी नज़र है
**************************
यूं न इतराईये कामयाबी पे जनाब
चार दिन की चाँदनी न कोई सहर है
**************************
चढ़के सर बोलती है कामयाबी यहाँ
है ये मीठा मगर ये तीखा जहर है
***************************
मिलिये इक बार ख़ुद से भी ज़नाब
आप में है क्या आप ख़ुद बेखबर है
***************************
करिये न ऐतबार यूं ही कपिल कभी
ऐतबार भी आज ख़ुद इक खबर है
***************************
कपिल कुमार
31/08/2016

1 Like · 2 Comments · 117 Views
You may also like:
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
"बेटी के लिए उसके पिता क्या होते हैं सुनो"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
'सती'
Godambari Negi
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
हनुमंता
Dhirendra Panchal
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
पिता
Dr. Kishan Karigar
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
Loading...