Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर

आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुरूप आपका व्यवहार नहीं है और आपके फ़ैसले में ईमानदारी नहीं है तो आपकी हर योग्यता तुच्छ है।

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
Paras Nath Jha
समझौता
समझौता
Shyam Sundar Subramanian
आदत न डाल
आदत न डाल
Dr fauzia Naseem shad
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
Vishal babu (vishu)
3391⚘ *पूर्णिका* ⚘
3391⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
जगदीश शर्मा सहज
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Bodhisatva kastooriya
As gulmohar I bloom
As gulmohar I bloom
Monika Arora
शराब
शराब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
gurudeenverma198
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
नहीं हूं...
नहीं हूं...
Srishty Bansal
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
मतदान दिवस
मतदान दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
छल
छल
गौरव बाबा
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
"आम्रपाली"
Dr. Kishan tandon kranti
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
VINOD CHAUHAN
पिता
पिता
Dr.Priya Soni Khare
बस करो, कितना गिरोगे...
बस करो, कितना गिरोगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
Harminder Kaur
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
Loading...