Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

आप अपनी नज़र से

फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
आप अपनी नज़र से देखेंगे ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
4 Likes · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
इतिहास गवाह है
इतिहास गवाह है
शेखर सिंह
"कलाकार"
Dr. Kishan tandon kranti
*इस कदर छाये जहन मे नींद आती ही नहीं*
*इस कदर छाये जहन मे नींद आती ही नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिन्दुस्तान जहाँ से अच्छा है
हिन्दुस्तान जहाँ से अच्छा है
Dinesh Kumar Gangwar
*पुण्य कमाए तब मिले, पावन पिता महान (कुंडलिया)*
*पुण्य कमाए तब मिले, पावन पिता महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"मित्रों से जुड़ना "
DrLakshman Jha Parimal
23/128.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/128.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
पूर्वार्थ
संवेदना - अपनी ऑंखों से देखा है
संवेदना - अपनी ऑंखों से देखा है
नवीन जोशी 'नवल'
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
Anjana banda
फूलों की तरह मैं मिली थी और आपने,,
फूलों की तरह मैं मिली थी और आपने,,
Shweta Soni
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुश्किलों से क्या
मुश्किलों से क्या
Dr fauzia Naseem shad
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दौर - ए - कश्मकश
दौर - ए - कश्मकश
Shyam Sundar Subramanian
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
आंखें
आंखें
Ghanshyam Poddar
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*प्रणय प्रभात*
Loading...