Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

आप अच्छे हो उससे ज्यादा,फर्क आप कितने सफल

आप अच्छे हो उससे ज्यादा,फर्क आप कितने सफल
और साध्य हो जीवन मै,इससे समाज मै आपके
व्यक्तिगत चरित्र के मान, सम्मान, काबिलियत की परिभाषा
प्रसारित होती है ।
अच्छे ना हो ,पर साध्य जरूर रहे
समाज और इंसान अब एडजस्ट का लेगा आपके साध्य
होने के साथ।

431 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मन को मना लेना ही सही है
मन को मना लेना ही सही है
शेखर सिंह
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
VINOD CHAUHAN
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
Dheeru bhai berang
3294.*पूर्णिका*
3294.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
Manisha Manjari
बिना दूरी तय किये हुए कही दूर आप नहीं पहुंच सकते
बिना दूरी तय किये हुए कही दूर आप नहीं पहुंच सकते
Adha Deshwal
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अब किसका है तुमको इंतजार
अब किसका है तुमको इंतजार
gurudeenverma198
मय है मीना है साकी नहीं है।
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
DrLakshman Jha Parimal
#पंचैती
#पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ आज का क़तआ (मुक्तक) 😘😘
■ आज का क़तआ (मुक्तक) 😘😘
*Author प्रणय प्रभात*
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*हर मरीज के भीतर समझो, बसे हुए भगवान हैं (गीत)*
*हर मरीज के भीतर समझो, बसे हुए भगवान हैं (गीत)*
Ravi Prakash
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
Rj Anand Prajapati
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
जब टूटा था सपना
जब टूटा था सपना
Paras Nath Jha
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
मेरा गांव
मेरा गांव
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
पर दारू तुम ना छोड़े
पर दारू तुम ना छोड़े
Mukesh Srivastava
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
Sunil Suman
Loading...