Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
====================
जब आप नहीं सुनोगे भैया
तब आपको कौन सुनेगा ?
जब आप नहीं पढ़ोगे भैया
फिर आपका कौन पढ़ेगा ?
आप अपने धुन पर नाचो
वह अपने लय मे गाएगा
आपके और उनके तालों का
युगलबंदी नहीं हो पाएगा !!
आप पूरब मे जाओगे तो
वह पश्चिम चला जाएगा
जब आप नहीं पढ़ोगे भैया
फिर आपका कौन पढ़ेगा ?
नेता जब हमको छलता है
तब हम उनको भी छलते हैं
पाँच साल के बाद उन्हें हम
घर की राह दिखते हैं !!
जब जनता की नहीं सुनोगे
आपका भी फिर कौन सुनेगा ?
जब आप नहीं पढ़ोगे भैया
फिर आपको कौन पढ़ेगा ?
मात पिता को आप भूलोगे
पुत्र आपका आपको भूलेगा
यदि वृद्धाश्रम भेजोगे उनको
आपको भी सड़कों पर छोड़ेगा !!
जो जैसा करता है दुनियाँ में
वैसा ही आपके साथ करेगा
जब आप नहीं पढ़ोगे भैया
फिर आपका कौन पढ़ेगा ?
जग को जीतना है तो भैया
जीने का अंदाज़ बदल दो
सबसे मिलकर रहना है तो
उनको अपने हृदय में रख लो !!
===============
डॉ लक्ष्मण झा परिमल
साउन्ड हेल्थ क्लिनिक
एस 0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
01.08.2023

Language: Hindi
173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
अरे...
अरे...
पूर्वार्थ
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
एक आज़ाद परिंदा
एक आज़ाद परिंदा
Shekhar Chandra Mitra
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
Dushyant Kumar
😢😢
😢😢
*प्रणय प्रभात*
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
आप क्या ज़िंदगी को
आप क्या ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
“जागू मिथिलावासी जागू”
“जागू मिथिलावासी जागू”
DrLakshman Jha Parimal
नई जगह ढूँढ लो
नई जगह ढूँढ लो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
"नायक"
Dr. Kishan tandon kranti
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
Shweta Soni
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
अशोक चाँद पर
अशोक चाँद पर
Satish Srijan
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
2608.पूर्णिका
2608.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
*नृत्य करोगे तन्मय होकर, तो भी प्रभु मिल जाएँगे 【हिंदी गजल/ग
*नृत्य करोगे तन्मय होकर, तो भी प्रभु मिल जाएँगे 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...