#18 Trending Author
Sep 21, 2016 · 1 min read

आपसे जो मिले खिल कमल हो गए

दो मुक्तक
1
आपसे जो मिले खिल कमल हो गए
बोल भी प्यार की इक ग़ज़ल हो गए
ज़िन्दगी में मिली जो ख़ुशी आपसे
नैन भी बावरे हो सजल हो गए
2
बदल ये भले ही जमाना रहा है
मगर दर्द अपना पुराना रहा है
न आराम तन को , न है चैन में मन
कहाँ वक़्त पहला सुहाना रहा है

डॉ अर्चना गुप्ता

8 Comments · 310 Views
You may also like:
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H.
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H.
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H.
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
महाराणा का शौर्य
Ashutosh Singh
पिता का दर्द
Nitu Sah
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
बुध्द गीत
Buddha Prakash
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
Loading...