Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2016 · 1 min read

आपसे जो मिले खिल कमल हो गए

दो मुक्तक
1
आपसे जो मिले खिल कमल हो गए
बोल भी प्यार की इक ग़ज़ल हो गए
ज़िन्दगी में मिली जो ख़ुशी आपसे
नैन भी बावरे हो सजल हो गए
2
बदल ये भले ही जमाना रहा है
मगर दर्द अपना पुराना रहा है
न आराम तन को , न है चैन में मन
कहाँ वक़्त पहला सुहाना रहा है

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
8 Comments · 365 Views
You may also like:
✍️अस्तित्वाच्या पाऊलखुणा
'अशांत' शेखर
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मैं तुझमें तू मुझमें
Varun Singh Gautam
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
आतुरता
अंजनीत निज्जर
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
जिंदगी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐कह भी डालो यार 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
करना धनवर्षा उस घर
gurudeenverma198
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
वक्त मलहम है।
Taj Mohammad
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
सुविधा भोगी कायर
Shekhar Chandra Mitra
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
मत करना
dks.lhp
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
आस्तीक भाग -तीन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
क्षमा
Shyam Sundar Subramanian
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
लोग आपन त सभे कहाते नू बा
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
कृष्ण नामी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आफत आई( बाल कविता )
Ravi Prakash
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
■ कविता / कहता. अगर बोल पाता तो....!
*प्रणय प्रभात*
दीप संग दीवाली आई
डॉ. शिव लहरी
Loading...