Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2023 · 1 min read

आपको डुबाने के लिए दुनियां में,

आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
ऐसे लोग भी बैठे होंगे,
जिनको तैरना भी,
आपने सिखाया होगा!
!जोहार बुढ़ादेव!

112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
*विभीषण (कुंडलिया)*
*विभीषण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
Rajesh Kumar Arjun
खुदा कि दोस्ती
खुदा कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माँ तेरी याद
माँ तेरी याद
Dr fauzia Naseem shad
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
3008.*पूर्णिका*
3008.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमें याद आता  है वह मंज़र  जब हम पत्राचार करते थे ! कभी 'पोस्
हमें याद आता है वह मंज़र जब हम पत्राचार करते थे ! कभी 'पोस्
DrLakshman Jha Parimal
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
प्रबुद्ध लोग -
प्रबुद्ध लोग -
Raju Gajbhiye
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
'अशांत' शेखर
संभावना
संभावना
Ajay Mishra
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
SPK Sachin Lodhi
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
श्रद्धा के सुमन ले के आया तेरे चरणों में
श्रद्धा के सुमन ले के आया तेरे चरणों में
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
मजबूर हूँ यह रस्म निभा नहीं पाऊंगा
gurudeenverma198
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
Loading...