Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने

आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने वाले होते हैं।
क्योंकि जिस बात पर हमें विश्वास होता है,उसी काम को हम पूरी निष्ठा से पूर्ण करते हैं।
नीलम शर्मा ✍️

54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
देवा श्री गणेशा
देवा श्री गणेशा
Mukesh Kumar Sonkar
स्वस्थ तन
स्वस्थ तन
Sandeep Pande
झरते फूल मोहब्ब्त के
झरते फूल मोहब्ब्त के
Arvina
यदि  हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
यदि हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
Raju Gajbhiye
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
Surinder blackpen
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
"सुसु के डैडी"
*Author प्रणय प्रभात*
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
पूर्वार्थ
माँ तेरे चरणों मे
माँ तेरे चरणों मे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
........
........
शेखर सिंह
"अस्थिरं जीवितं लोके अस्थिरे धनयौवने |
Mukul Koushik
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
प्रियतम तुम हमको मिले ,अहोभाग्य शत बार(कुंडलिया)
प्रियतम तुम हमको मिले ,अहोभाग्य शत बार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
फादर्स डे
फादर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
Anand Kumar
भोर
भोर
Kanchan Khanna
"जांबाज़"
Dr. Kishan tandon kranti
नेता जब से बोलने लगे सच
नेता जब से बोलने लगे सच
Dhirendra Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...