Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2024 · 1 min read

आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।

आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।

मैं अकिञ्चन तुच्छ सा नर भीड़ में खोया हुआ।
शून्य हूँ अस्तित्व रीता मान कर सोया हुआ।
मान देने के लिए ही आप आकर अड़ गए।

आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।

दिग्भ्रमित गंतव्य है अवरूद्ध है हर पथ मेरा।
भाग्य भी कहने लगा था कुछ नहीं कोई तेरा।
आप सब बनकर स्नेही विधि से मेरे लड़ गये।

आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।

रक्त का रिश्ता नहीं है नाहि कोई वास्ता।
पर हमारे जिन्दगी का आपही हैं दास्ताँ।
आप मेरे दु:ख के पग शूल बनकर गड़ गये।

आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।

बोल दूं आभार वह सामर्थ्य मुझमें है नहीं।
मोल लूं यह प्यार वह सामर्थ्य मुझमें है नहीं।
दंभ के सब भाव पतझड़ पात बनकर झड़ गये।

आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।

आपका अपना
✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’

1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
Do you know ??
Do you know ??
Ankita Patel
"किस पर लिखूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
रखो अपेक्षा ये सदा,  लक्ष्य पूर्ण हो जाय
रखो अपेक्षा ये सदा, लक्ष्य पूर्ण हो जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
Vishal babu (vishu)
"आज मैं काम पे नई आएगी। खाने-पीने का ही नई झाड़ू-पोंछे, बर्तन
*प्रणय प्रभात*
हम उस पीढ़ी के लोग है
हम उस पीढ़ी के लोग है
Indu Singh
3344.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3344.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
यादें
यादें
Tarkeshwari 'sudhi'
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वो ज़माने चले गए
वो ज़माने चले गए
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
अंतिम साँझ .....
अंतिम साँझ .....
sushil sarna
मैं मजदूर हूं
मैं मजदूर हूं
हरवंश हृदय
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
सबकी जात कुजात
सबकी जात कुजात
मानक लाल मनु
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
Ritu Asooja
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
पूर्वार्थ
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कसौटी जिंदगी की
कसौटी जिंदगी की
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आश्रम
आश्रम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
तुलना से इंकार करना
तुलना से इंकार करना
Dr fauzia Naseem shad
चुप्पी
चुप्पी
डी. के. निवातिया
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बस चलता गया मैं
बस चलता गया मैं
Satish Srijan
*वर्षा लेकर आ गई ,प्रिय की पावन याद(कुंडलिया)*
*वर्षा लेकर आ गई ,प्रिय की पावन याद(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...