Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 3 min read

— आधे की हकदार पत्नी —

सुप्रीम कोर्ट कहे या कहे हाई कोर्ट, पति पत्नी के बीच अगर विश्वाश की कड़ी जबरदस्त है, तो किसी भी तरह के कानून की कोई आवश्यकता नहीं है, कानून कहेगा कि पति की संपत्ति में से पत्नी का आधा हक़ है, चाहे पति ने कितना भी कमाया हो, उस पर आधा हक़ पत्नी का रहेगा !

मैं कहता हूँ, पति और पत्नी एक मिसाल हैं, एक विश्वाश का धागा हैं, जो कभी टूटेगा नहीं, सात फेरे लेते वक्त किसी कानून की जब जरुरत नहीं पड़ी, तो आगे की जिंदगी में भी किसी तरह के कानून की जरुरत नहीं पड़नी चाहिए !

पत्नी का आधे का नहीं पूरे का हक़ है , अगर वो विश्वाश के साथ पति के साथ जीवन यापन करती है तो , चूंकि उस ने पति के लिए ही अपना सारा घर त्यागा है, परिवार को आगे बढ़ाने के लिए अपना जीवन बलिदान किया है, हर दुःख और सुख में पति का साथ देने के लिए रात दिन एक किया है, भूख प्यास की परवाह किये बिना कंधे के साथ कन्धा मिला कर साथ चलने का प्रण लिया है,तो ऐसे में भला संपत्ति पर आधे का हक़ बेमानी सा लगता है!

मैं तो यही कहूंगा, कि अपनी पत्नी के लिए , उस को हर काम में साथ देने के लिए हर पति को तैयार रहना चाहिए, अगर वो बीमार हो जाए तो कम से कम अपने हाथ से खाना बना कर खिला तो सको, उस को दवा आदि देने का ध्यान रखो, उस के मन में क्या है , उस की देखभाल करने का फ़र्ज़ भी तो पति का ही है, उस के मन की स्थिति को समझो, मैं सिर्फ पति हूँ, इस बात पर कभी गुमान न करो, वो ही सारे काम करेगी, ऐसी बातों को मन से निकाल कर उस का हर वक्त साथ दो, वो अपने घर से सिर्फ और सिर्फ तुम्हारे लिए आयी है, वो संपत्ति की भूखी नहीं है, वो आपके प्यार, आपके साथ, के लिए आपके साथ है !

अगर वो आपको पति परमेश्वर मानती है, आपके लिए, आपके बच्चों की परवरिश के लिए सदैव तत्पर रहती है, तो क्या पति का कोई कर्तव्य नहीं बनता कि वो भी अपनी पत्नी को देवी समझे, उस का आदर करे, न कि उस को पैर की जूती समझे , पति और पत्नी का बराबर का हक़ है, दोनों ही एक दूजे आएंगे, कोई पास पड़ोस का नहीं आएगा, कि आप ने कुछ खाया कि नहीं, आपके घर में क्या दिक्कत है, कैसी परिस्थिति से आप जूझ रहे है, जो भी कुछ करना है, वो पति और पत्नी ने ही करना है, वो अर्धांगिनी है, भगवान् शिव जी की तस्वीर में साफ़ साफ़ देखने को मिलता है,कि पति और पत्नी एक जिस्म में विराजमान हैं, दोनों एक दुसरे की बिना अपूर्ण हैं !

अक्सर ही देखने को मिलता है, पति अपने अभिमान की भाषा से पत्नी पर कुछ ज्यादा हक़ जमाते हैं, शराब पी कर घर आते है, शराब के नशे में गन्दी भाषा का इस्तेमाल कर के उस पर हाथ उठाते है, न जाने किस किस तरह के अत्याचार करते हैं, ठीक है आप मर्द हो इस का यह मतलब नहीं निकलता है, कि आप अपनी पहलवानी का नमूना अपनी पत्नी पर ही उठा कर प्रदर्शित करो !

इस लेख में मैं यह लिखने पर मजबूर हुआ, चूंकि बहुत से घरो में ऐसी दरिंदगी भरी बातें होती हैं, आपको किसी भी तरह के कानून की जरुरत न पड़े, इस बात का ध्यान रखते हुए आपस में प्यार से , आदर सम्मान से जीवन को गुजारो, कुछ भी गलत हुआ तो भुगतना परिवार को ही पड़ता है, समाज में बदनामी का दाग लगेगा , वो अलग , कानून की लड़ाईयां कभी खत्म नहीं होती हैं, इंसान खत्म हो जाते है, अगर यह सोचो की आपके लड़ाई झगडे को कोर्ट सुलझा देगी, वो तो खुद अवसर की तलाश में बैठे है, कि कब आप घर में लड़ो, एक दूजे को मारो, क़त्ल करो, और तारीख पर तारीख का भुगतान करने के लिए विवश हो जाओ. !!

नारी का सम्मान करोगे, तभी बनेगा हर घर महान
क्या संपत्ति, क्या धन, क्या कानून , सब कुछ बेमान !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 2 Comments · 544 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
कोई अपना
कोई अपना
Dr fauzia Naseem shad
मकड़जाल से धर्म के,
मकड़जाल से धर्म के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
मन में रख विश्वास,
मन में रख विश्वास,
Anant Yadav
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
"तलाशिए"
Dr. Kishan tandon kranti
*हिंदी दिवस मनावन का  मिला नेक ईनाम*
*हिंदी दिवस मनावन का मिला नेक ईनाम*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ मन गई राखी, लग गया चूना...😢
■ मन गई राखी, लग गया चूना...😢
*Author प्रणय प्रभात*
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Shyam Sundar Subramanian
3129.*पूर्णिका*
3129.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
ऐसे थे पापा मेरे ।
ऐसे थे पापा मेरे ।
Kuldeep mishra (KD)
*सॉंसों में जिसके बसे, दशरथनंदन राम (पॉंच दोहे)*
*सॉंसों में जिसके बसे, दशरथनंदन राम (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मांओं को
मांओं को
Shweta Soni
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोयल कूके
कोयल कूके
Vindhya Prakash Mishra
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
प्रणय निवेदन
प्रणय निवेदन
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
Where is love?
Where is love?
Otteri Selvakumar
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
माँ
माँ
shambhavi Mishra
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
आसाँ नहीं है - अंत के सच को बस यूँ ही मान लेना
आसाँ नहीं है - अंत के सच को बस यूँ ही मान लेना
Atul "Krishn"
वाचाल पौधा।
वाचाल पौधा।
Rj Anand Prajapati
जब तक मन इजाजत देता नहीं
जब तक मन इजाजत देता नहीं
ruby kumari
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...