Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

आदिवासी

हम इंसान थोड़े हैं!
बस कीड़े-मकोड़े हैं!!
चाहे कोई कुचल दे
चाहे कोई मसल दे
तहज़ीब के चेहरे पर
कुछ घिनौने फोड़े हैं!!
#बहुजन_क्रांति #विद्रोह #आदिवासी
#savehasdeoforest #उत्पीड़न
#tribeslivematter #ज़मीन #हक़
#जंगल_बचाओ #trees #nature

Language: Hindi
381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
VINOD CHAUHAN
बेअसर
बेअसर
SHAMA PARVEEN
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
Sanjay ' शून्य'
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
"सोचिए"
Dr. Kishan tandon kranti
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
आर.एस. 'प्रीतम'
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
GOVIND UIKEY
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
यादें
यादें
Dinesh Kumar Gangwar
"संवाद "
DrLakshman Jha Parimal
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
पहला इश्क
पहला इश्क
Dipak Kumar "Girja"
दोनों हाथों से दुआएं दीजिए
दोनों हाथों से दुआएं दीजिए
Harminder Kaur
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Being an
Being an "understanding person" is the worst kind of thing.
पूर्वार्थ
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
तुम न आये मगर..
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
3182.*पूर्णिका*
3182.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
😊नया नारा😊
😊नया नारा😊
*प्रणय प्रभात*
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
परिवर्तन चाहिए तो प्रतिवर्ष शास्त्रार्थ कराया जाए
परिवर्तन चाहिए तो प्रतिवर्ष शास्त्रार्थ कराया जाए
Sonam Puneet Dubey
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
Loading...