Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

आदिपुरुष फ़िल्म

कैसे किसने दे दिया, तुमको ये अधिकार
’आदिपुरुष’ में पात्र का, बदला हर किरदार
बदला हर किरदार, वेशभूषा भी कैसी
उस पर ओछे बोल, लिखी भाषा है ऐसी
कहे ‘अर्चना’ बात, भाव जिसके हैं ऐसे
उसको सेंसर बोर्ड, मान्यता देता कैसे

17-06-2023
डॉ अर्चना गुप्ता

12 Likes · 9 Comments · 2030 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
बोध
बोध
Dr.Pratibha Prakash
"शौर्य"
Lohit Tamta
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
पत्थर की लकीर नहीं है जिन्दगी,
पत्थर की लकीर नहीं है जिन्दगी,
Buddha Prakash
मेरी कलम
मेरी कलम
Dr.Priya Soni Khare
" मैं तन्हा हूँ "
Aarti sirsat
Memories
Memories
Sampada
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ सकारात्मकता...
■ सकारात्मकता...
*Author प्रणय प्रभात*
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
Bodhisatva kastooriya
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नर को न कभी कार्य बिना
नर को न कभी कार्य बिना
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
Arvind trivedi
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
Phool gufran
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
सत्य कुमार प्रेमी
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
आओ ...
आओ ...
Dr Manju Saini
दर्द
दर्द
Satish Srijan
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
💐प्रेम कौतुक-347💐
💐प्रेम कौतुक-347💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...