Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2023 · 1 min read

आदमी हैं जी

आज हम तुम बस बिन सुने सामने से गुजर जाता है आदमी है जी स्वार्थ और उम्मीद के साथ बिन सुने सामने से गुजर जाता है आदमी है जी रिश्ते नाते सच अब निभाते हैं बस बिन सुने सामने से गुजर जाता है आदमी है जी जिंदगी के साथ कागज पर दस्तखत कर पहचान भूल जाता हैं। बिन सुने सामने से गुजर जाता है आदमी है जी सच तो रंगमंच पर किरदार निभाते हुए बिन सुने सामने से गुजर जाता है आदमी है जी आओ समय को समझना होगा, हम सभी को एक दूसरे को सहयोग देना हैं। मानवता के साथ चलना वरन् बिन सुने सामने से गुजर जाता है आदमी है जी नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
1 Like · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
■ धूर्तता का दौर है जी...
■ धूर्तता का दौर है जी...
*Author प्रणय प्रभात*
साहब कहता वेट घटाओ
साहब कहता वेट घटाओ
Satish Srijan
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक नज़्म - बे - क़ायदा
एक नज़्म - बे - क़ायदा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
औरत कमज़ोर कहां होती है
औरत कमज़ोर कहां होती है
Dr fauzia Naseem shad
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सरस रंग
सरस रंग
Punam Pande
मित्रता क्या है?
मित्रता क्या है?
Vandna Thakur
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
gurudeenverma198
2558.पूर्णिका
2558.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैंने रात को जागकर देखा है
मैंने रात को जागकर देखा है
शेखर सिंह
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
बन गई पाठशाला
बन गई पाठशाला
rekha mohan
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
Parvat Singh Rajput
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
चाँदनी
चाँदनी
नन्दलाल सुथार "राही"
तुम जोर थे
तुम जोर थे
Ranjana Verma
"बरसात"
Dr. Kishan tandon kranti
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
जुनून
जुनून
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...