Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2023 · 1 min read

आदमी का मानसिक तनाव इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज

आदमी का मानसिक तनाव इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज्जो नही दिया जाता है
उसके लिए कविता
तुम रूख हो, तूफान भी तुम, तू चट्टान भीए नदी, पुरुष हृदय के गहरे में, छिपे सवालों की गठरी।
नज़रों में छुके हुए, आंसू पोंछते हाथ, बोझ उठाए चलते हो, बिना किसी शिकायत।
समाज की दौड़ में, तुम रथ का पहिया बने, अपनी खुशियों को भुलाकर, दूसरों का घर सजाने।
पर क्या कभी पूछा है, तुम्हारे दिल का हाल, जो छुपाए दर्द को, सह लेता है बेमिसाल।
डरते हो कमज़ोर कहेंगे, अगर ज़रा टूटे तार, तो बना लो नकाब फिर से, मुस्कुराहट का हथियार।
पर सुनो ऐ पुरुष मन, कमज़ोरी नहीं ये बात, संवेदनाओं का समंदर, तुम्हारे भीतर समाया है।
बोल दो जो दबा है, रो लो अगर आँसू छलके, अपनी ज़िंदगी का बोझ, थोड़ा औरों से बाँट ले।
समझेंगी ये दुनियाँ, तुम्हारा भी दर्द सच्चा, हर इंसान के सीने में, धड़कता है एक ही नन्हा।
तो खोलो मन के द्वार अब, हवा लेने दो खुलकर, पुरुष हो तुम, पहाड़ नहीं, झुक सकते हो झुककर।
हिम्मत रखो, रास्ता तय करो, हार मत मानो कभी, खुद को पहचानो, स्वीकारो, खुशियाँ ढूंढो ज़िंदगी।
कविता नहीं ये, सन्देश है, समाज को ये देना, पुरुष मन की अनसुनी कहानी, अब ज़माने को समझाना

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आलता महावर
आलता महावर
Pakhi Jain
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
Shweta Soni
फ़ितरत अपनी अपनी...
फ़ितरत अपनी अपनी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मानवता है धर्म सत,रखें सभी हम ध्यान।
मानवता है धर्म सत,रखें सभी हम ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
Jay Dewangan
आंखों से बयां नहीं होते
आंखों से बयां नहीं होते
Harminder Kaur
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
Vijay kumar Pandey
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी में.....
जिंदगी में.....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
निशान
निशान
Saraswati Bajpai
आलसी व्यक्ति
आलसी व्यक्ति
Paras Nath Jha
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शाश्वत और सनातन
शाश्वत और सनातन
Mahender Singh
2737. *पूर्णिका*
2737. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आना-जाना चल रहा, रोजाना का काम (कुंडलिया)
आना-जाना चल रहा, रोजाना का काम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
Tarun Garg
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
आखिर कब तक ?
आखिर कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...