Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

*आत्मविश्वास*

आत्मविश्वास *

” आत्म विश्वास यानि स्वयं का स्वयं पर विश्वास
अद्वित्य,अदृश्य, आत्मा की आवाज़ है ,आत्मविश्वास”

आत्मविश्वास मनुष्य में समाहित अमूल्य रत्न मणि है।
आत्मविश्वास एक ऐसी पूंजी है
जो मनुष्य की सबसे बड़ी धरोहर है।

आत्म विश्वास ही चींटी को पहाड़ चढ़ने को प्रेरित करता है ,वरना कहाँ चींटी कहाँ पहाड़।
आत्मविश्वास विहीन मनुष्य मृतक के सामान है ।

तन की तंदरुस्ती माना की पौष्टिक भोजन से आती है
परन्तु मनुष्य के आत्मबल को बढ़ाता है
उसका स्वयं का आत्मविश्वास ।

* आत्म विश्वास ही तो है जिसके बल पर बड़ी-
बड़ी जंगे जीती जाती हैं ,इतिहास रचे जाते हैं ।
आत्मविश्वास, यानि, स्वयं की आत्मा पर विश्वास
स्वयं का स्वयम पर विश्वास जरूरी है ,वरना हाथों
की लकीरें भी अधूरी हैं।
कहते हैं हाथों की लकीरों में तकदीरें लिखी होती है
बशर्ते तकदीरें भी कर्मों पर टिकी होती हैं *

*आत्म विश्वास यानि स्वयं में समाहित ऊर्जा को
पहचानना और उसे उजागार करना ।
तन की दुर्बलता तो दूर हो सकती है
परन्तु मन की दुर्बलता मनुष्य को जीते जी मार
देती है ।
इसलिए कभी भी आत्म विश्वास ना खोना
मेरे साथियों ,क्योंकि आत्मविश्वास ही तुम्हारी
वास्तविक पूँजी है जो हर क्षण तुम्हें प्रेरित करती है।
निराशा से आशा की और ले जाती है* ।

1 Like · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ritu Asooja
View all
You may also like:
सच्चाई की कीमत
सच्चाई की कीमत
Dr Parveen Thakur
होली के मजे अब कुछ खास नही
होली के मजे अब कुछ खास नही
Rituraj shivem verma
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
Raju Gajbhiye
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
2388.पूर्णिका
2388.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
"जिराफ"
Dr. Kishan tandon kranti
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हल
हल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
दिवाली
दिवाली
नूरफातिमा खातून नूरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
संघर्ष
संघर्ष
Sushil chauhan
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सत्तावन की क्रांति का ‘ एक और मंगल पांडेय ’
सत्तावन की क्रांति का ‘ एक और मंगल पांडेय ’
कवि रमेशराज
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
लाल फूल गवाह है
लाल फूल गवाह है
Surinder blackpen
परिसर खेल का हो या दिल का,
परिसर खेल का हो या दिल का,
पूर्वार्थ
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
अलगाव
अलगाव
अखिलेश 'अखिल'
Loading...