Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,

आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
देखते ही ये खूबसूरत चहेरा तकदीर बन जाती है !
!
ख्याहिश न कोई बाकि रह जाती तुम्हे पाकर अब,
जहां पड़े कदम तेरे जन्नत ऐ कश्मीर बन जाती है !!
!
स्वरचित -मौलिक : डी के निवातिया

336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
* कष्ट में *
* कष्ट में *
surenderpal vaidya
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
तेवरी में करुणा का बीज-रूप +रमेशराज
कवि रमेशराज
भोर
भोर
Omee Bhargava
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
Aryan Raj
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
शेखर सिंह
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
*क्या देखते हो *
*क्या देखते हो *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
*राम तुम्हारे शुभागमन से, चारों ओर वसंत है (गीत)*
*राम तुम्हारे शुभागमन से, चारों ओर वसंत है (गीत)*
Ravi Prakash
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
Vishal babu (vishu)
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Love
Love
Kanchan Khanna
राही
राही
Neeraj Agarwal
बिटिया विदा हो गई
बिटिया विदा हो गई
नवीन जोशी 'नवल'
"ख्वाबों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
अपने ही  में उलझती जा रही हूँ,
अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
Davina Amar Thakral
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
Kumar lalit
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मत रो मां
मत रो मां
Shekhar Chandra Mitra
"जिंदगी"
नेताम आर सी
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
Shweta Soni
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...