Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

#आज_की_बात

#आज_की_बात
#समझदारों_के_साथ
【प्रणय प्रभात】
(Y) मुझे अच्छे लगते हैं वो तमाम मित्र जो अपनी भांति-भांति की तस्वीरें खींच-खींच कर चुपचाप पोस्ट करते रहते हैं पूरे आत्मविश्वास के साथ। बिना किसी को परेशान किए। जैसे भी हैं कम से कम ऑरीजिनल तो हैं।
(Y) मुझे बहुत बुरे लगते हैं वो तमाम लोग जो पता नहीं किस-किस की बहिन, बेटी या बहू की तस्वीर रोज़ ला- लाकर चिपकाते रहते हैं अपनी वॉल पर भी तथा औरों की दीवार पर भी (टेग की मदद से)
हेवभगवान…!
ऐसे लोगों की अपनी बहिनों, बेटियों और बहुओं को बुरी नजर से बचाना, क्योंकि समाज में ऐसे लोगों के भाई-बंधु सैकड़ों या हजारों नहीं लाखों की तादाद में हैं।
😢😢😢😢😢
प्रीति

2 Likes · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जग जननी
जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बाल कविता: मेलों का मौसम है आया
बाल कविता: मेलों का मौसम है आया
Ravi Prakash
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
अपना अपना कर्म
अपना अपना कर्म
Mangilal 713
मछली रानी
मछली रानी
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
میرے اس دل میں ۔
میرے اس دل میں ۔
Dr fauzia Naseem shad
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
Vishal babu (vishu)
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
Anamika Tiwari 'annpurna '
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
डर  ....
डर ....
sushil sarna
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
ले चल साजन
ले चल साजन
Lekh Raj Chauhan
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"आशा" की चौपाइयां
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
शुभ रक्षाबंधन
शुभ रक्षाबंधन
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुतूहल आणि जिज्ञासा
कुतूहल आणि जिज्ञासा
Shyam Sundar Subramanian
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
डॉक्टर रागिनी
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"बहुत है"
Dr. Kishan tandon kranti
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
शेखर सिंह
बहरों तक के कान खड़े हैं,
बहरों तक के कान खड़े हैं,
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...