Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2023 · 1 min read

आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,

आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
अपने दिल के अल्फाज़ लिख रहीं हूँ…

सादगी बहुत हैं, अल्फाज़ बहुत हैं…
ख्वाब बहुत हैं, ज़ज्बात बहुत हैं…
धुन तो नहीं, पर राग बहुत हैं..
कुछ टूटे हुए, कुछ छुटे हुए …
कुछ बिखरे हुए, कुछ रूठे हुए…
कुछ अपने से, कुछ खुद से
कुछ बेगाने से, कुछ दोस्तों से
कुछ नए से, कुछ पुराने से…
कुछ भूले हुए, कुछ अनजाने से…

छूटे हुए कुछ अंदाज लिख रही हूँ,
अपने दिल के अल्फाज़ लिख रही हूँ ।

ये इतना आसान नहीं ,
दिल की बातें कोई सामान नहीं,
लिखने के लिए ये काग़ज़ है,
पर इनमे कहां इतनी ताकत है…
जो संभाल पाए मेरे ये दोस्ती को, परिवार को, रिश्तेदार को,खुद को,
इन काग़ज़ों में वो औकात नहीं,
खैर जाने दो,दिल में कोई खास बात नहीं…

जो हो गए नजरअंदाज, लिख रहीं हूँ
अपने दिल के अल्फाज़ लिख रही हूँ।

अगर संभाल ना पायेंगे कभी अपने अहसासों को,
तो काग़ज़! मिलने आयेंगे तुमसे हम, बताएंगे अपने जज़्बातों को….
भीड़ में कभी अगर तन्हा हुए,,,
तो बुलाएंगे तुम्हें,,भीगी भीगी रातों को ..
अभी के लिए नहीं बताना है कुछ …
तुम भीग जाओगे आंसुओ से…
और रूठ जाओगे मुझसे…
और मै न मना पाऊँगी….
अपनी बेचैनी को , खुद संभाल नही पाऊंगी. .
राते बीत जाएंगी यादो मे, कुछ खुद का तो कुछ अपनों का, यूँ ही कटती है कुछ लम्बेहे अपनों के यादों मे ।।
अब बस……😒😒

स्वरा कुमारी आर्या ✍️✍️

256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
बेहतर है गुमनाम रहूं,
बेहतर है गुमनाम रहूं,
Amit Pathak
वक़्त का आईना
वक़्त का आईना
Shekhar Chandra Mitra
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
Neelam Sharma
तरुण
तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
दीवारों की चुप्पी में
दीवारों की चुप्पी में
Sangeeta Beniwal
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
टिमटिमाता समूह
टिमटिमाता समूह
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
Sarfaraz Ahmed Aasee
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
गीत नए गाने होंगे
गीत नए गाने होंगे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
क्यों मानव मानव को डसता
क्यों मानव मानव को डसता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
■ कटाक्ष....
■ कटाक्ष....
*Author प्रणय प्रभात*
उड़ चल रे परिंदे....
उड़ चल रे परिंदे....
जगदीश लववंशी
*शंकर जी (बाल कविता)*
*शंकर जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जिन्दगी
जिन्दगी
लक्ष्मी सिंह
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
2889.*पूर्णिका*
2889.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...