Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2017 · 1 min read

आज फिर से भूख की और रोटियों की बात हो

ग़ज़ल

आज फिर से भूख की और रोटियों की बात हो
खेत से रूठे हुए सब मोतियों की बात हो

जिनसे तय था ये अँधेरे दूर होंगे गाँव के
अब अंधेरों से कहो उन सब दियों की बात हो

इक नए युग में हमें तो लेके जाना था तुम्हें
इस समुन्दर में कहीं तो कश्तियों की बात हो

जो तुम्हारी याद लेकर आ गई थीं एक दिन
धूप में जलती हुई उन सर्दियों की बात हो

जिनको तुमने था उजाड़ा कल तरक्की के लिए
आज फिर उजड़ी हुई उन बस्तियों की बात हो

ज़िक्र जब भी जंगलों का, आंसुओं का, आए तो
पेड़ से टूटी हुई सब पत्तियों की बात हो

-डॉ. राकेश जोशी

266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
Ravi Prakash
हो नजरों में हया नहीं,
हो नजरों में हया नहीं,
Sanjay ' शून्य'
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
manjula chauhan
"संगीत"
Dr. Kishan tandon kranti
-बहुत देर कर दी -
-बहुत देर कर दी -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
नदी की मुस्कान
नदी की मुस्कान
Satish Srijan
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं...!!!!
Jyoti Khari
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
फकीर का बावरा मन
फकीर का बावरा मन
Dr. Upasana Pandey
3334.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3334.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
#सुबह_की_प्रार्थना
#सुबह_की_प्रार्थना
*प्रणय प्रभात*
*दिल का दर्द*
*दिल का दर्द*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
No love,only attraction
No love,only attraction
Bidyadhar Mantry
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी....
बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी....
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
AVINASH (Avi...) MEHRA
* हो जाता ओझल *
* हो जाता ओझल *
surenderpal vaidya
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
gurudeenverma198
सोया भाग्य जगाएं
सोया भाग्य जगाएं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मतदान दिवस
मतदान दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यादें
यादें
Tarkeshwari 'sudhi'
कागज के फूल
कागज के फूल
डा गजैसिह कर्दम
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...