Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Sep 2022 · 1 min read

आज तन्हा है हर कोई

जुबाँ की बात सब हैं सुनते,
मन की बात न सुनता कोई ।
हाल तो सब पूछते हैं मगर,
खबर यहाँ नही लेता कोई ।
सब चेहरे पढने की दावा हैं करते,
मन यहाँ नही पढता कोई ।
भीड़ में रहकर भी आज,
तन्हा जी रहा है हर कोई ।
खुशी तो बाँट लेते हैं सब ,
गम नही बाँटता है कोई।
जीने के लिए जी रहें हैं सब,
पर जिदंगी कहाँ जीता है कोई।
सही-गलत को देखकर भी,
आज खामोश है यहाँ हर कोई।
सब एक-दूसरे में कमियां ढूँढते है
अपने अन्दर की कमियों को
दूर करता नही है कोई।
बड़ी बड़ी बातें सब करते है
लेकिन इसे स्वयं अपनाता कहा है कोई।
अनामिका

Language: Hindi
9 Likes · 15 Comments · 316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
कि हम मजदूर है
कि हम मजदूर है
gurudeenverma198
अगे माई गे माई ( मगही कविता )
अगे माई गे माई ( मगही कविता )
Ranjeet Kumar
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
Paras Nath Jha
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
Ravi Prakash
कैसे कहूँ ‘आनन्द‘ बनने में ज़माने लगते हैं
कैसे कहूँ ‘आनन्द‘ बनने में ज़माने लगते हैं
Anand Kumar
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दया करो भगवान
दया करो भगवान
Buddha Prakash
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
Pakhi Jain
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
2821. *पूर्णिका*
2821. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
"पृथ्वी"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
कवि दीपक बवेजा
हिद्दत-ए-नज़र
हिद्दत-ए-नज़र
Shyam Sundar Subramanian
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
Rohit Gupta
स्वतंत्रता दिवस
स्वतंत्रता दिवस
Dr Archana Gupta
मेरी सिरजनहार
मेरी सिरजनहार
कुमार अविनाश केसर
■ सत्यानासी कहीं का।
■ सत्यानासी कहीं का।
*Author प्रणय प्रभात*
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
पूर्वार्थ
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
💐प्रेम कौतुक-172💐
💐प्रेम कौतुक-172💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तन्हाई
तन्हाई
नवीन जोशी 'नवल'
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
नव लेखिका
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
Loading...