Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम

आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम
ये ख़ामोशी कुछ कहना चाह रही हो, जेसे फिर से गुम होना चाहती हो तुम !
आज ये बदल जो बरसे , फिर से भीग जाना चाहती हो तुम
आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम !
ये आंखे तुम्हे यादो में खोजती रही , शायद फिर से यादे बनना चाहती हो तुम
तुम्हारे जाने पर उलझ गए थे कुछ सवाल , शायद उन्हें सुलझाने आयी हो तुम !
आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम
BY Pratik Jangid

Language: Hindi
Tag: लेख
265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIK JANGID
View all
You may also like:
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
Rj Anand Prajapati
2412.पूर्णिका
2412.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"मित्र से वार्ता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
Paras Nath Jha
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
Dr MusafiR BaithA
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
Er.Navaneet R Shandily
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
जल
जल
Saraswati Bajpai
😢नारकीय जीवन😢
😢नारकीय जीवन😢
*Author प्रणय प्रभात*
हर आईना मुझे ही दिखाता है
हर आईना मुझे ही दिखाता है
VINOD CHAUHAN
"नए पुराने नाम"
Dr. Kishan tandon kranti
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Writing Challenge- समय (Time)
Writing Challenge- समय (Time)
Sahityapedia
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
Dr fauzia Naseem shad
*हाथ में पिचकारियाँ हों, रंग और गुलाल हो (मुक्तक)*
*हाथ में पिचकारियाँ हों, रंग और गुलाल हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
मुस्कुराना चाहता हूं।
मुस्कुराना चाहता हूं।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मेरी पंचवटी
मेरी पंचवटी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जीवन का इक आइना, होते अपने कर्म
जीवन का इक आइना, होते अपने कर्म
Dr Archana Gupta
सूरज दादा छुट्टी पर (हास्य कविता)
सूरज दादा छुट्टी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
Ankita Patel
बाल दिवस पर विशेष
बाल दिवस पर विशेष
Vindhya Prakash Mishra
बहू और बेटी
बहू और बेटी
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...