Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

आज जो कल ना रहेगा

आज जो कल ना रहेगा
—————————–
आज वासंती पवन है,
शुष्क कल हो जायेगा;
स्याह वो जो कल वही,
शाख से झड़ जायेगा !

, जिंदगी संग में सवेरा,
संग ले आती सदा;
नित्य ही दिनमान भी-
शाम बन ढह जायेगा !

क्षोभ पश्चाताप का ,
लोभ जीवन-प्राण का ;
मोह जड़ संसार की है-
कर्म पल्लव लायेगा !

शाख संतति वाहु कर-पद,
व्यस्न जनु व्यापार है ;
हानि ज्यों अन-अन जरापा-
मोक्ष त्यज संसार है !

मृत्यु ले जाये किधर यह,
कर्म का आरेख है ;
पाठ ज्यों लिखते गये-
सद्कर्म ज्यों कि सुलेख है!

तिलक-वंदन चारु-चंदन,
सिक्त अभि-अंग और मर्दन;
कण्ठ का अवरुद्ध -रोदन –
स्वाँस-रोध प्रत्यक्ष है!

जिंदगी ही मेल है ,
मेल बिन ये झमेल है ;
उत्तरोत्तर प्रगति है तो –
जिंदगी अठ-खेल है !

जो निराशा में जियेगा,
खाक क्या जीवन जियेगा !
सर्वहारा बन जिया जो –
युग-पुरुष मानक बनेगा !!
———————————————-
आशु-चिंतन
@स्वरूप दिनकर, आगरा
————————————,———-

47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वैर भाव  नहीं  रखिये कभी
वैर भाव नहीं रखिये कभी
Paras Nath Jha
नारी
नारी
Acharya Rama Nand Mandal
🌿⚘️ मेरी दिव्य प्रेम कविता ⚘️🌿
🌿⚘️ मेरी दिव्य प्रेम कविता ⚘️🌿
Ms.Ankit Halke jha
💐प्रेम कौतुक-446💐
💐प्रेम कौतुक-446💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
एक एक ख्वाहिशें आँख से
एक एक ख्वाहिशें आँख से
Namrata Sona
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
*Author प्रणय प्रभात*
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
बन्दे   तेरी   बन्दगी  ,कौन   करेगा   यार ।
बन्दे तेरी बन्दगी ,कौन करेगा यार ।
sushil sarna
कुछ नमी
कुछ नमी
Dr fauzia Naseem shad
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
Ashok deep
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
तुम्हीं  से  मेरी   जिंदगानी  रहेगी।
तुम्हीं से मेरी जिंदगानी रहेगी।
Rituraj shivem verma
बाबुल का आंगन
बाबुल का आंगन
Mukesh Kumar Sonkar
अनेकों पंथ लोगों के, अनेकों धाम हैं सबके।
अनेकों पंथ लोगों के, अनेकों धाम हैं सबके।
जगदीश शर्मा सहज
*दुर्भाग्य से बौनों ने पाया, उच्चतम-पदभार है  (हिंदी गजल/गीत
*दुर्भाग्य से बौनों ने पाया, उच्चतम-पदभार है (हिंदी गजल/गीत
Ravi Prakash
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
कवि दीपक बवेजा
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
3061.*पूर्णिका*
3061.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...