Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2023 · 1 min read

आज का रावण

गलतियों को गलतियों से जो सदा ढकते रहे।
झूठ पर बस झूठ ही जो सदा बकते रहे।।
पाप को निष्पाप साबित जो सदा करता रहे।
होके मानव जो सदा दानव कर्म ही करता रहे।।
है वही कलियुग का रावण, संबंध जो है बेचता।
स्त्रियों में काम और जन में दाम केवल देखता।।
इन गुणों को देख ‘संजय’, अलग खुद को कीजिए।
कर समर्पित श्रीराम को, जपनाम जीवन लीजिए।।

Language: Hindi
1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*वंदे मातरम् (मुक्तक)*
*वंदे मातरम् (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"पंखों वाला घोड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
Sanjay ' शून्य'
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
gurudeenverma198
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
........,,?
........,,?
शेखर सिंह
3135.*पूर्णिका*
3135.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
देखी है हमने हस्तियां कई
देखी है हमने हस्तियां कई
KAJAL NAGAR
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
Shakil Alam
#एकअबोधबालक
#एकअबोधबालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
जिनकी खातिर ठगा और को,
जिनकी खातिर ठगा और को,
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
If you have believe in you and faith in the divine power .yo
If you have believe in you and faith in the divine power .yo
Nupur Pathak
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
"माँ"
इंदु वर्मा
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...