Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2022 · 3 min read

आज का विकास या भविष्य की चिंता

वर्तमान में विकास बहुत तेज गति से हो रहा है ।हिंदुस्तान विकसित देशों की तरफ बढ़ रहा है। विकसित देश और विकसित होने का प्रयास कर रहे हैं किंतु इस विकास पर विराम कहां लगेगा। वैसे तो परिवर्तन नैसर्गिक नियम है जो कल था उसका स्वरूप आज अलग है और जो आज है भविष्य में उसका स्वरूप भी बदलने वाला है। यह सार्वभौमिक तथ्य है चाहे भौतिक परिवर्तन हो या सांस्कृतिक परिवर्तन या विचारों का परिवर्तन ,सभ्यता का परिवर्तन किंतु यह परिवर्तन रुकेगा कहां। इस प्रश्न का उत्तर हो सकता है कि पृथ्वी के विध्वंस पर? जो बना है वह एक दिन नष्ट भी होगा किंतु कब नष्ट होगा? यह समय अंतराल ही मेरे विचार से विकास को निर्धारित करता है। इसे हम एक उदाहरण से देख सकते हैं। जिस प्रकार हम ताश के पत्तों से इमारत बनाने का प्रयास करते हैं बनाते जाते हैं बनाते जाते हैं किंतु एक समय ऐसा आता है कि वह उससे अधिक और नहीं बनती और जब वह चरम पर रहती है तब एकाएक धराड़ से गिर जाती है यदि हम इसी प्रकार भवन निर्माण करें मंजिल के ऊपर मंजिल बनाते जाएं अनेकों मंजिल बनाने के बाद एक समय तो ऐसा आएगा कि उसका संतुलन बिगड़ेगा और वह गिर जाएगी यदि हम इसी प्रकार विकास को ले।‌ हम जितने तीव्र गति से विकास करते जाएंगे उसके विनाश का स्वरूप भी स्वत: ही पास आता जाएगा। फिर क्या? एक दिन विनाश तो निश्चित है। आज व्यक्ति बहुत तीव्र गति से अपना जीवन यापन करने का प्रयास कर रहा है हरसुख हर सुविधा बहुत जल्दी पाना चाहता है एक वयस्क व्यक्ति के सुख बचपन में प्राप्त करना चाहता है आविष्कार इन सुखों की प्राप्ति का ही परिणाम है किंतु विकास की एक सीमा भी तो है विकास ब्रह्मांड की तरह अनंत तो हो नहीं सकता। प्राकृतिक भंडार की भी एक सीमा है जब खनिज सीमित है भूमि सीमित है विकास भी सीमित होना चाहिए। अर्थात जितनी तेजी से प्राकृतिक साधनों का दोहन होगा उतनी ही तेजी से विकास होगा और जितनी तेजी से विकास होगा समझ लो हम अंत की तरफ भी उतनी ही तेजी से चल रहे हैं। क्योंकि मनुष्य का अहंकार के उतनी ही तेजी से विकसित हो रहा है आज लगभग आबादी शिक्षित है। किंतु फिर भी विश्व में टकराव की स्थिति क्यों उत्पन्न हो रही है क्योंकि शिक्षित सभ्य होता है और सभ्य व्यक्तियों में तो टकराव होना ही नहीं चाहिए किंतु फिर भी दुनिया जितनी अधिक शिक्षा की ओर बढ़ रही है टकराव उतने ही अधिक उत्पन्न होते जा रहे हैं। अर्थात ज्ञान का विकास भी एक निश्चित स्थिति के बाद विनाश की ओर अग्रसर हो जाता है। वर्तमान संदर्भ में तो ऐसा ही कहा जा सकता है युद्ध पहले भी लड़े गए। सभ्यता के लिए पहले भी टकराव होते रहे। वर्चस्व स्थापित करने के लिए पहले भी युद्ध होते रहे। इससे इनकार नहीं किया जा सकता। किंतु उस समय के अस्त्र शस्त्र और आज के अस्त्र शस्त्र में समय का अंतर है। और यह अंतर ही विकास है और यह विकास ही विनाश है। यही चिंता का कारण है इसे बहुत गहराई से समझना होगा।

-विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

््््््््््््््््््््््््््््््््््््््

Language: Hindi
Tag: लेख
4 Likes · 289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3351.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3351.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
कोई बिगड़े तो ऐसे, बिगाड़े तो ऐसे! (राजेन्द्र यादव का मूल्यांकन और संस्मरण) / MUSAFIR BAITHA
कोई बिगड़े तो ऐसे, बिगाड़े तो ऐसे! (राजेन्द्र यादव का मूल्यांकन और संस्मरण) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
उमंग
उमंग
Akash Yadav
अगर कभी किस्मत से किसी रास्ते पर टकराएंगे
अगर कभी किस्मत से किसी रास्ते पर टकराएंगे
शेखर सिंह
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
Amit Pathak
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राष्ट्र-मंदिर के पुजारी
राष्ट्र-मंदिर के पुजारी
नवीन जोशी 'नवल'
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
रात
रात
sushil sarna
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
"बेल"
Dr. Kishan tandon kranti
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
DrLakshman Jha Parimal
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
Neeraj Agarwal
चीर हरण ही सोचते,
चीर हरण ही सोचते,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऊंट है नाम मेरा
ऊंट है नाम मेरा
Satish Srijan
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
वो हर रोज़ आया करती है मंदिर में इबादत करने,
वो हर रोज़ आया करती है मंदिर में इबादत करने,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* आए राम हैं *
* आए राम हैं *
surenderpal vaidya
■ आज की बात....!
■ आज की बात....!
*प्रणय प्रभात*
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
Loading...