” आज उमड़ जाने दो “

पलकों पर रुका है सागर जो ,
उसे आज उमड़ जाने दो.
कि इस ज्वार को रोको नही ,
उसे आज मचल जाने दो .
ये जो लहरें बावरी सी हो ,
मचल रही गगन से मिलने को .
कि आज इन लहरों को ,
गगन से मिल जाने दो.
भावनाओं की दरिया को ,
आज बह जाने दो .
कि मन तरंगो को रोको नही ,
उसे आज उन्मुक्त हो जाने दो .
…निधि …

1 Like · 1 Comment · 154 Views
You may also like:
बुध्द गीत
Buddha Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
"एक यार था मेरा"
Lohit Tamta
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H.
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
दर्द भरे गीत
Dr.sima
Loading...