Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं

आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िंदगी में? तो शायद आपको बहुत कम ही लोग सकारात्मक जवाब देते पाए जाएंगे कि हम मस्त हैं! ज़िंदगी भी मस्ती में कट रही है! बहुसंख्यकों का जवाब होगा कि कहां कुछ सही हो रहा है ज़िंदगी में, एकदम सारी प्रगति रुकी हुई है! हर प्रकार के संसाधन से लैश व्यक्ति ही ज्यादातर ख़ुद को दुःख में रहने की अभिनय करते पाए जाएंगे! इसका एक ही मतलब निकाला जा सकता है कि या तो इंसान सारी खुशियां पा लेने के बाद दुःख पाना चाहता है या उसे स्वतः मिल जाती है! या वो और सुख की चाहत में कि लोग उसे ऐसे आहत देखकर उसके सुख के लिए दुआएं करें! इसलिए ऐसा अभिनय करता है! वहीं एक आम इंसान जिसके पास ज़रूरत की भी सारी वस्तुएं मौजूद ना हों वह कभी खुद को असहाय समझने की चेष्टा नहीं करता! और आप उससे मिलो और उससे कुछ क्षण बात करो तो आपके नकारात्मक विचार उसी वक्त उसके जज्बे को देखकर ध्वस्त हो जायेंगे!

175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
ruby kumari
■
■ "मृतपूजक" वाली छवि से छुटकारा पाएं। जीवित का भी ध्यान रखें
*Author प्रणय प्रभात*
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
The Earth Moves
The Earth Moves
Buddha Prakash
देश खोखला
देश खोखला
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
गाँधी हमेशा जिंदा है
गाँधी हमेशा जिंदा है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खुद को तलाशना और तराशना
खुद को तलाशना और तराशना
Manoj Mahato
2545.पूर्णिका
2545.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लोकतंत्र का मंत्र
लोकतंत्र का मंत्र
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
Vinod Patel
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
DrLakshman Jha Parimal
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
Ranjeet kumar patre
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
क्या बताऍं शुगर हो गई(  हास्य व्यंग्य )
क्या बताऍं शुगर हो गई( हास्य व्यंग्य )
Ravi Prakash
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
#drarunkumarshastei
#drarunkumarshastei
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दरक जाती हैं दीवारें  यकीं ग़र हो न रिश्तों में
दरक जाती हैं दीवारें यकीं ग़र हो न रिश्तों में
Mahendra Narayan
Loading...