Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

आज आंखों में

मैं नहीं कहती कि मेरे हिस्से में हर खुशी आये ।
आज आंखों में मेरे आंसू फिर क्यों बेवजह आये ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
7 Likes · 137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
मैं कौन हूँ कैसा हूँ तहकीकात ना कर
मैं कौन हूँ कैसा हूँ तहकीकात ना कर
VINOD CHAUHAN
मेरे अंतस में ......
मेरे अंतस में ......
sushil sarna
कातिल अदा
कातिल अदा
Bodhisatva kastooriya
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
*मुख पर गजब पर्दा पड़ा है क्या करें【मुक्तक 】*
*मुख पर गजब पर्दा पड़ा है क्या करें【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Acrostic Poem
Acrostic Poem
jayanth kaweeshwar
बोगेनविलिया
बोगेनविलिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"ताकीद"
Dr. Kishan tandon kranti
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
जनता
जनता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
2520.पूर्णिका
2520.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
शादी ..... एक सोच
शादी ..... एक सोच
Neeraj Agarwal
*माॅं की चाहत*
*माॅं की चाहत*
Harminder Kaur
होना जरूरी होता है हर रिश्ते में विश्वास का
होना जरूरी होता है हर रिश्ते में विश्वास का
Mangilal 713
*हथेली  पर  बन जान ना आए*
*हथेली पर बन जान ना आए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
Neelam Sharma
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
शेखर सिंह
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चौथ का चांद
चौथ का चांद
Dr. Seema Varma
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Srishty Bansal
Loading...