Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

आजाद पंछी

*पिंजरों से निकल कर पंछी
जब आजाद हुए ,सुनहरे अक्षरों में
अपनी तक़दीर*
लिखने को बेताब हुए…..
छूने को आसमान हम इस क़दर
पंख फड़फड़ायेंग़े राहों की हर बाधा
से लड़ जायेंगे ,आसमान में अपने घरौंदे
बना आयेंगे ,नये इतिहास की नयी इबारत
लिख जाएँगे किसी के जीने का मक़सद
बन जायेंगे ।
“अभी तो पंख फड़फड़ाये हैं थोड़ा इतराएहैं
खिलखिखिला रहा है बचपन
मुस्कराता बचपन”
👫बचपन मीठा बचपन ,
सरल बचपन
सच्चा बचपन 👯‍♂️

“ वो गर्मियों की छुट्टियाँ
बच्चों के चेहरों पर खिलती
फुलझड़ियाँ”
“घरों के आंगनो में लौट आयी है रौनक़
सूने पड़े गली -मोहल्ले भी चहकने लगे हैं ।
बूडे दादा -दादी भी खिड़कियों से झाँक-झाँक कर
देखने लगे हैं , सुस्त पड़े चहरे भी खिल गये हैं
मन ही मन मुस्काते हैं , पर बड़पन्न का रौब दिखाते हैं
आइसक्रीम और क़ुल्फ़ियों की होड़ लगी है
ठंडाई भी ख़ूब उछल रही है
पानी -पूरी भी ख़ूब डुबकी लगा रही है
पिज़्ज़ा ,बरगर ,पस्ता भी सबको लुभा रहे हैं
चिंटू ,चिंकी ,सिद्धु ,निकी भी सब मस्त हैं
सपनों को सच करने को
बड़े बुज़र्गों से ख़ूब दुआएँ कमा रहे हैं *

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ritu Asooja
View all
You may also like:
कहता है सिपाही
कहता है सिपाही
Vandna thakur
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
*भारतीय जीवन बीमा निगम : सरकारी दफ्तर का खट्टा-मीठा अनुभव*
*भारतीय जीवन बीमा निगम : सरकारी दफ्तर का खट्टा-मीठा अनुभव*
Ravi Prakash
दोस्ती से हमसफ़र
दोस्ती से हमसफ़र
Seema gupta,Alwar
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
"सफलता की चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
...........
...........
शेखर सिंह
2462.पूर्णिका
2462.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पूछो ज़रा दिल से
पूछो ज़रा दिल से
Surinder blackpen
बड़ा मज़ा आता है,
बड़ा मज़ा आता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
मुफ्त राशन के नाम पर गरीबी छिपा रहे
मुफ्त राशन के नाम पर गरीबी छिपा रहे
VINOD CHAUHAN
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
Mohan Pandey
Loading...