Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

आजाद तेरी आजादी

भारत मां के अमर पुत्र “चन्द्रशेखर आजाद” की पुण्य तिथि पर मेरी एक तुच्छ सी रचना l
रचना का भाव समझने के लिये पूरी रचना पढेl”

**आजाद तेरी आज़ादी की अस्मत चौराहों पर लूटी जाती है**

शत बार नमन ऐ हिंद पुत्र!
शत बार तुम्हें अभिराम रहे,
आज़ाद रहे ये हिंद तुम्हारा,
आज़ाद तुम्हारा नाम रहे l

याद बखूबी है मुझको कि तुमने क्या कुर्बान किया,
आजाद थे तुम और अन्तिम क्षण तक आज़ादी का गान किया,
बचपन, यौवन, संगी-साथी, सब तुमने वतन को दे डाला,
अपनी हर इक सांस को तुमने हिंद पे ही बलिदान किया,
मगर सुनो ऐ हिंद पुत्र-
अब तो उस आजादी की बस गरिमा टूटी जाती है,
और भरे चौराहों पर उसकी इज्जत लूटी जाती है l

जिसकी खातिर लाखों वीरों ने अपना सर्वस्व मिटा डाला,
निष्प्राण किया खुद को फ़िर उसके अभिनन्दन को बिछा डाला,
आजाद हिंद का आसमान अब उसपर कौंधा जाता है,
और उसी आजादी को अब पैरों से रौंदा जाता है,
उस आजादी को लिखने पर आंख से नदियां फूटी जाती हैं,
आजाद तेरी आजादी की इज्जत चौराहों पर लूटी जाती है ll

तुमने शीश चढाया था कि हिंद ये जिन्दाबाद रहे,
तुम ना भी रहो फ़िर भी ये रहे, आजाद रहे आबाद रहे,
तुम्हारा इंकलाब अब देशद्रोह के पलडो में तोला जाता है,
और हिंद की मुर्दाबादी का नारा खुलकर बोला जाता है,
अब हिंद के जिन्दाबाद पे तेरी जनता रूठी जाती है,
आजाद तेरी आजादी की इज्जत चौराहों पर लूटी जाती है l

जिस आजादी के सपनों में तुमने सुबह-ओ-शाम किया,
राजदुलारों ने उसको चौराहों पर नीलाम किया,
संसद के दु:शासन उसका चीरहरण कर लेते है,
और हवस की ज्वाला अपनी आंखों में भर लेते हैं ,
सर्वेश्वर श्री कृष्ण की गाथा अब बस झूठी जाती है,
आजाद तेरी आजादी की इज्जत चौराहों पर लूटी जाती है ll

आज तुम्हारी पुण्य तिथि पर ये सब सोच के आंखें रोयी थीं,
इसी हिंद की मिट्टी में तुमने अपनी शहादत बोयी थी,
आज तुम्हारी कुर्बानी पर ये लोग तो ताने कसते हैं,
ये आस्तीन के सांप हैं अपने रखवालों को डंसते हैं,
और भला क्या लिखूं?
कलम हाथ से छूटी जाती है,
आजाद तेरी आजादी की इज्जत चौराहों पर लूटी जाती है ll

All rights reserved.

-Er Anand Sagar Pandey

178 Views
You may also like:
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...