Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

आजादी विचारों से होनी चाहिये

आजादी विचारों से होनी चाहिये
ना कि संस्कारों से

2 Likes · 387 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इल्तिजा
इल्तिजा
Bodhisatva kastooriya
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
*प्रभु का संग परम सुखदाई (चौपाइयॉं)*
*प्रभु का संग परम सुखदाई (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
हे राम !
हे राम !
Ghanshyam Poddar
" मैं कांटा हूँ, तूं है गुलाब सा "
Aarti sirsat
"मत पूछो"
Dr. Kishan tandon kranti
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
फिल्म तो सती-प्रथा,
फिल्म तो सती-प्रथा,
शेखर सिंह
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
मैं हूं न ....@
मैं हूं न ....@
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब निहत्था हुआ कर्ण
जब निहत्था हुआ कर्ण
Paras Nath Jha
राखी की सौगंध
राखी की सौगंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्री राम
श्री राम
Kavita Chouhan
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
जीवन -जीवन होता है
जीवन -जीवन होता है
Dr fauzia Naseem shad
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मांगने से रोशनी मिलेगी ना कभी
मांगने से रोशनी मिलेगी ना कभी
Slok maurya "umang"
దీపావళి కాంతులు..
దీపావళి కాంతులు..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
Atul "Krishn"
Loading...