Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

********* आजादी की कीमत **********

********* आजादी की कीमत **********
***********************************

शहीदों ने खूब खेली लाल लहू से होली थी।
आजादी की कीमत खून के बदले तौली थी।

वीरों ने था जंग लड़ा लाल लहू फौलाद हुआ,
मरते दम तक डटे रहे तभी देश आजाद हुआ,
फिरंगियों से खूब लड़ी रणवीरों की टोली थी।
आजादी की कीमत खून के बदले तौली थी।

बच्चा,बूढा और जवान देश पर क़ुरबान हुआ,
रण में था रक्त बहा हद बेहद बलिदान हुआ,
कुरबानी के बल पर मुक्ति से भरी झौली थी।
आजादी की कीमत खून के बदले तौली थी।

रंग दे बंसती चोला ये भगत सिंह ने गाया था,
गोरों की हद में विद्रोह का बिगुल बजाया था,
देश मेरा आजाद करो ऐसी बोली बोली थी।
आजादी की कीमत खून के बदले तौली थी।

कण-कण में शहीद हुए आजादी के दीवानें,
देश की खातिर मर मिटे वो देशभक्त परवाने,
एकता की ताकत जन गण मन मे घोली थी।
आजादी की कीमत खून के बदले तौली थी।

मनसीरत लहू शहीदों का आखिर रंग लाया,
लाल किले की चोटी पर था तिरंगा फहराया,
अंग्रेजी हुकूमत की सीने पर खाई गोली थी।
आजादी की कीमत खून के बदले तौली थी।

शहीदों ने खूब खेली लाल लहू से होली थी।
आजादी की कीमत खून के बदले तौली थी।
**********************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्यो नकाब लगाती
क्यो नकाब लगाती
भरत कुमार सोलंकी
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"वो बुड़ा खेत"
Dr. Kishan tandon kranti
बहना तू सबला हो🙏
बहना तू सबला हो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कविता
कविता
Shiva Awasthi
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
Pratibha Pandey
(Y) #मेरे_विचार_से
(Y) #मेरे_विचार_से
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन सभी का मस्त है
जीवन सभी का मस्त है
Neeraj Agarwal
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Sakshi Tripathi
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
डी. के. निवातिया
*देश के  नेता खूठ  बोलते  फिर क्यों अपने लगते हैँ*
*देश के नेता खूठ बोलते फिर क्यों अपने लगते हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
बिल्ली की तो हुई सगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
“ OUR NEW GENERATION IS OUR GUIDE”
“ OUR NEW GENERATION IS OUR GUIDE”
DrLakshman Jha Parimal
संकल्प
संकल्प
Davina Amar Thakral
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
हिंदी दिवस की बधाई
हिंदी दिवस की बधाई
Rajni kapoor
"साधक के गुण"
Yogendra Chaturwedi
*जमाना बदल गया (छोटी कहानी)*
*जमाना बदल गया (छोटी कहानी)*
Ravi Prakash
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
कैसे कहे
कैसे कहे
Dr. Mahesh Kumawat
Loading...