Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

आज़माइश कोई

भूख के सिवा नहीं
जिनकी ख्वाहिश कोई ,
ज़िन्दगी की इससे बड़
कर न आज़माइश कोई ।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
3 Likes · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
होना जरूरी होता है हर रिश्ते में विश्वास का
होना जरूरी होता है हर रिश्ते में विश्वास का
Mangilal 713
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छैल छबीली
छैल छबीली
Mahesh Tiwari 'Ayan'
*योग-दिवस (बाल कविता)*
*योग-दिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*समझौता*
*समझौता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* ज्योति जगानी है *
* ज्योति जगानी है *
surenderpal vaidya
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
Dr MusafiR BaithA
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
कविता :- दुःख तो बहुत है मगर.. (विश्व कप क्रिकेट में पराजय पर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
दिल धड़क उठा
दिल धड़क उठा
Surinder blackpen
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सत्संग
सत्संग
पूर्वार्थ
*दिल का आदाब ले जाना*
*दिल का आदाब ले जाना*
sudhir kumar
झुग्गियाँ
झुग्गियाँ
नाथ सोनांचली
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
चार दिन की जिंदगी किस किस से कतरा के चलूं ?
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पत्थरवीर
पत्थरवीर
Shyam Sundar Subramanian
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
फ़ितरत-ए-साँप
फ़ितरत-ए-साँप
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ भाषा संस्कारों का दर्पण भी होती है श्रीमान!!
■ भाषा संस्कारों का दर्पण भी होती है श्रीमान!!
*प्रणय प्रभात*
संवेदना -जीवन का क्रम
संवेदना -जीवन का क्रम
Rekha Drolia
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
Rj Anand Prajapati
"जी लो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
Loading...