Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

आजमाइशों में खुद को क्यों डालते हो।

आजमाइशों में खुद को क्यों डालते हो।
जिसके काबिल नही हो तुम उसको खुदासे क्यों मांगते हो।।

खुदकी ना देखते हो बस गिला करते हो।
गैरो की खातिर तुम हमेशा ही हमको जानें क्यों रुलाते हो।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
Sarfaraz Ahmed Aasee
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मिलन की वेला
मिलन की वेला
Dr.Pratibha Prakash
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
***
*** " ओ मीत मेरे.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
कौन सुनेगा बात हमारी
कौन सुनेगा बात हमारी
Surinder blackpen
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
Santosh Soni
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
सनम की शिकारी नजरें...
सनम की शिकारी नजरें...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
Shweta Soni
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
Tlash
Tlash
Swami Ganganiya
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
2772. *पूर्णिका*
2772. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अधिकांश होते हैं गुमराह
अधिकांश होते हैं गुमराह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शाम
शाम
Kanchan Khanna
■ जय लोकतंत्र■
■ जय लोकतंत्र■
*Author प्रणय प्रभात*
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
💐Prodigy Love-7💐
💐Prodigy Love-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*छतरी (बाल कविता)*
*छतरी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गीतिका।
गीतिका।
Pankaj sharma Tarun
Loading...