Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2024 · 1 min read

आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है।

आजकल के लोगों के रिश्तों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करता है। कवि कहता है कि आजकल के लोगों के पास रिश्तों के लिए समय नहीं है। वे केवल दिखावे के लिए रिश्ते बनाते हैं, इन रिश्तों में कोई प्यार या विश्वास नहीं होता है। ये रिश्ते सिर्फ एक नाटक हैं जो कुछ दिनों के लिए चलता है।
इन रिश्तों के कारण लोग अकेलेपन का अनुभव करते हैं। वे वास्तविक प्यार और विश्वास की तलाश में रहते हैं, लेकिन उन्हें नहीं मिलता है।

इन रिश्तों को बदलने की अपील करता है। वह कहता है कि लोगों को रिश्तों के लिए समय निकालना चाहिए और उन्हें वास्तविक प्यार और विश्वास के आधार पर बनाना चाहिए।

83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-468💐
💐प्रेम कौतुक-468💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
कोरोना का आतंक
कोरोना का आतंक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
श्याम सिंह बिष्ट
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
इंसान में नैतिकता
इंसान में नैतिकता
Dr fauzia Naseem shad
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
3185.*पूर्णिका*
3185.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रदर्शन
प्रदर्शन
Sanjay ' शून्य'
"किनारे से"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्तों की बंदिशों में।
रिश्तों की बंदिशों में।
Taj Mohammad
“पतंग की डोर”
“पतंग की डोर”
DrLakshman Jha Parimal
Helping hands🙌 are..
Helping hands🙌 are..
Vandana maurya
मोबाइल के भक्त
मोबाइल के भक्त
Satish Srijan
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम भजन
राम भजन
आर.एस. 'प्रीतम'
कितने ही गठबंधन बनाओ
कितने ही गठबंधन बनाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
बढ़कर बाणों से हुई , मृगनयनी की मार(कुंडलिया)
बढ़कर बाणों से हुई , मृगनयनी की मार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
तुम क्या हो .....
तुम क्या हो ....." एक राजा "
Rohit yadav
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*Author प्रणय प्रभात*
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
Loading...