Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2024 · 1 min read

आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही

आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
मैं तो लिखकर मिटाता हूं इक राधा नाम
तेरी यादोंको दिल में समेटे_फिरूं
मेरा दिल गुन गुनाता है इक राधा नाम
कभी_ हंसता हूं रोता तड़पता हूं मैं
बस मुझे याद रहता है इक राधा नाम
हे दया की_ निधि इक कृपा_ कीजिए
दिल खुशियां पिरोता है इक राधा नाम
कृष्णा पागल हुआ राधिका के बिना
सारी दुनिया को दिखता इक राधा नाम
✍️कृष्णकांत गुर्जर धनौरा

1209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
Shreedhar
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
कवि दीपक बवेजा
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"हाथों की लकीरें"
Dr. Kishan tandon kranti
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्या छिपा रहे हो
क्या छिपा रहे हो
Ritu Asooja
बचा ले मुझे🙏🙏
बचा ले मुझे🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चुनावी रिश्ता
चुनावी रिश्ता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमारे विपक्ष में
हमारे विपक्ष में
*Author प्रणय प्रभात*
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
होली के हुड़दंग में ,
होली के हुड़दंग में ,
sushil sarna
3058.*पूर्णिका*
3058.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सजल...छंद शैलजा
सजल...छंद शैलजा
डॉ.सीमा अग्रवाल
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
Loading...