Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

आग………..

आग…..

हमने कई रूपो मे देखा इसको ,
कभी हसांती ये कभी रूलाती है,
यदि हृदय मे लग जाये किसी के
जीते जी तन – बदन जलाती है।

घर – घर का दीपक बनकर
रोशन करती है कोना-कोना
अगर बने नफरत की चिंगारी
महलो को खाक मे मिलाती है।।

प्रणय वेदी पर होती प्रज्वलित
पवित्र हवन कुडं मे सजती है,
शमशान मे बनकर दाग देह का
नश्नर शरीर भस्म कर जाती है ।।

इतनी सयानी, इतनी चपल ये
चिगांरी से शोला बन जाती है
हर एक शै: को राख बनाकर
दुनिया भर मे धाक जमाती है ।।

उष्मीयता का अपना ही गुण
जीवन कारक मानी जाती है
हर आँगन के चूल्हे जलकर
मानस पेट की आग बुझाती है ।।

विभत्स रूप ऐसा भी देखा
जब दिल ये दहला जाती है
बहू रूप मेे किसी के आँगंन
जब एक बेटी जलाई जाती है ।।

जन्मकाल हो या हो मृत्यू काल
घर मे पूजा हो या कोई अनुष्ठान
हर खुशी हर गम की साक्षी बन
अग्नि नाम से पहचानी जाती है ।।




डी. के. निवातियॉ ________@,

2 Comments · 204 Views
You may also like:
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दया करो भगवान
Buddha Prakash
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
पिता
Mamta Rani
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
बुआ आई
राजेश 'ललित'
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...