Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

आग………..

आग…..

हमने कई रूपो मे देखा इसको ,
कभी हसांती ये कभी रूलाती है,
यदि हृदय मे लग जाये किसी के
जीते जी तन – बदन जलाती है।

घर – घर का दीपक बनकर
रोशन करती है कोना-कोना
अगर बने नफरत की चिंगारी
महलो को खाक मे मिलाती है।।

प्रणय वेदी पर होती प्रज्वलित
पवित्र हवन कुडं मे सजती है,
शमशान मे बनकर दाग देह का
नश्नर शरीर भस्म कर जाती है ।।

इतनी सयानी, इतनी चपल ये
चिगांरी से शोला बन जाती है
हर एक शै: को राख बनाकर
दुनिया भर मे धाक जमाती है ।।

उष्मीयता का अपना ही गुण
जीवन कारक मानी जाती है
हर आँगन के चूल्हे जलकर
मानस पेट की आग बुझाती है ।।

विभत्स रूप ऐसा भी देखा
जब दिल ये दहला जाती है
बहू रूप मेे किसी के आँगंन
जब एक बेटी जलाई जाती है ।।

जन्मकाल हो या हो मृत्यू काल
घर मे पूजा हो या कोई अनुष्ठान
हर खुशी हर गम की साक्षी बन
अग्नि नाम से पहचानी जाती है ।।




डी. के. निवातियॉ ________@,

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 232 Views
You may also like:
समय को दोष देते हो....!
Dr. Pratibha Mahi
तन्मय
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बदतर होते हालात
Shekhar Chandra Mitra
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
करो व्यायाम
Buddha Prakash
ये वतन हमारा है
Dr fauzia Naseem shad
■ आलेख / लोकतंत्र का तक़ाज़ा
*Author प्रणय प्रभात*
अंधे का बेटा अंधा
AJAY AMITABH SUMAN
राख
लक्ष्मी सिंह
बगल में छुरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🌹खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*हम आम जन (मुक्तक)*
Ravi Prakash
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
Dr Archana Gupta
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
मानपत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हें देखा
Anamika Singh
दरारों से।
Taj Mohammad
" सब्र बचपन का"
Dr Meenu Poonia
✍️पत्थर✍️
'अशांत' शेखर
माँ वाणी की वंदना
Prakash Chandra
“ गोलू क जन्म दिन “
DrLakshman Jha Parimal
किया है तुम्हें कितना याद ?
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बैंक पेंशनर्स की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मैं तुमसे प्रेम करती हूँ
Kavita Chouhan
यह तस्वीर कुछ बोलता है
राकेश कुमार राठौर
उसकी मुस्कराहट के , कायल हुए थे हम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुर्गा पूजा विषर्जन
Rupesh Thakur
कुछ समझ लिया कीजै
Dr. Sunita Singh
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
Loading...