Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 1 min read

आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।

आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
मंदिर कभी न बन पाए ऐसे मुश्किल हालात किया।।
पर तुम्हें कौन रोकेगा राघव अवध पूरी में आने से। भारत के नायक की छवि पर कैसा कैसा आघात किया।।
पर इन्हें छमा करना हे प्रभु बिसराकर इनकी कुटिलाई।
सोया भारत फिर जाग रहा ले रहा सनातन अंगड़ाई।।
🌹जय श्री राम🌹

1 Like · 131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ स्कंदमाता की कृपा,
माँ स्कंदमाता की कृपा,
Neelam Sharma
" तुम से नज़र मिलीं "
Aarti sirsat
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
पहला खत
पहला खत
Mamta Rani
रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
Er.Navaneet R Shandily
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम नहीं आये
तुम नहीं आये
Surinder blackpen
आवारा परिंदा
आवारा परिंदा
साहित्य गौरव
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
💐प्रेम कौतुक-465💐
💐प्रेम कौतुक-465💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
DrLakshman Jha Parimal
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
धनमद
धनमद
Sanjay ' शून्य'
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
'विडम्बना'
'विडम्बना'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
Rj Anand Prajapati
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
हवन
हवन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*इमली (बाल कविता)*
*इमली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
नयी शुरूआत
नयी शुरूआत
Dr fauzia Naseem shad
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
गीत
गीत
Shiva Awasthi
Loading...