Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

आखिर हम कब तक सहें….: छंद कुण्डलिया

छंद कुंडलिया
(दोहा +रोला, प्रारंभिक व अंतिम शब्द एक ही)
___________________________________
(पीड़ितों की और से….)
आखिर हम कब तक सहें, आतंकी के वार.
मार गिराया जो इसे, करता अत्याचार.
करता अत्याचार, समर्थन में गद्दारी.
खुलकर आयी भीड़, पाक झंडा ले भारी.
चुप बैठी सरकार, मात्र वोटों की खातिर.
हम भी हैं तैयार, सहेगें कब तक आखिर..

(निष्कर्ष….)
आतंकी मानव नहीं, दानव हैं ये जोंक.
निपटाकर फ़ौरन इन्हें, दें भट्ठी में झोंक.
दें भट्ठी में झोंक. राख तक मिले न बाकी.
जो ले इनका पक्ष, काट दे वर्दी खाकी.
गद्दारों की भीड़, बने यदि पागल सनकी,
घातक बम दें फोड़, समझ असली आतंकी..
___________________________________
प्रस्तुति–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

128 Views
You may also like:
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
कैसी तेरी खुदगर्जी है
Kavita Chouhan
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
“ वसुधेव कुटुम्बकंम ”
DrLakshman Jha Parimal
सच्ची दीवाली
rkchaudhary2012
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
* मोरे कान्हा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देव प्रबोधिनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
Advice
Shyam Sundar Subramanian
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
एक और महाभारत
Shekhar Chandra Mitra
शख्सियत - मॉं भारती की सेवा के लिए समर्पित योद्धा...
Deepak Kumar Tyagi
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हौसले मेरे
Dr fauzia Naseem shad
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
Loading...