Oct 6, 2016 · 1 min read

आखिर हम कब तक सहें….: छंद कुण्डलिया

छंद कुंडलिया
(दोहा +रोला, प्रारंभिक व अंतिम शब्द एक ही)
___________________________________
(पीड़ितों की और से….)
आखिर हम कब तक सहें, आतंकी के वार.
मार गिराया जो इसे, करता अत्याचार.
करता अत्याचार, समर्थन में गद्दारी.
खुलकर आयी भीड़, पाक झंडा ले भारी.
चुप बैठी सरकार, मात्र वोटों की खातिर.
हम भी हैं तैयार, सहेगें कब तक आखिर..

(निष्कर्ष….)
आतंकी मानव नहीं, दानव हैं ये जोंक.
निपटाकर फ़ौरन इन्हें, दें भट्ठी में झोंक.
दें भट्ठी में झोंक. राख तक मिले न बाकी.
जो ले इनका पक्ष, काट दे वर्दी खाकी.
गद्दारों की भीड़, बने यदि पागल सनकी,
घातक बम दें फोड़, समझ असली आतंकी..
___________________________________
प्रस्तुति–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

92 Views
You may also like:
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam मन
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
बेटी का संदेश
Anamika Singh
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
गधा
Buddha Prakash
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H.
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
# पिता ...
Chinta netam मन
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मातृ रूप
श्री रमण
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
Loading...