Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो

आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
क्यों फिर छोटी-छोटी बातों पर तुम शर्मिंदा हो

खुला आसमान खुली हवाएं बैठी अंतर्मन में ज्वाला
फिर भी पर ही नहीं फेहराये ऐसा कौन परिंदा हो

शांत चित् से मरुधरा पर ऐसे बैठ गए हो तुम
जैसे तूफानों से टकराकर घायल कोई परिंदा हो

वीर शिवा के वंशज हो और जिगरा है फौलादी
ऐसा कुछ कर जाओ की दिखला दो कि जिंदा हो

श्वेत रंग सा चरित्र हो अपना आंखों में हो तेज भरा
दिल में तूफानों सा उठता और हृदय में आवेग भरा

दिल में दीप जला करके अंधियाले को दूर भगाओ
आसमान में उठता गौरव, ईश्वर के पृथक् चुनिंदा हो

🅺🅰🆅🅸 🅳🅴🅴🅿🅰🅺 🆂🅰🆁🅰🅻
🅳🅴🅴🅶 (🅱🅷🅰🆁🅰🆃🅿🆄🆃) 🆁🅰🅹
🅲🅾🅽🆃 -8058086648

1 Like · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
Phool gufran
मैं नहीं तो कोई और सही
मैं नहीं तो कोई और सही
Shekhar Chandra Mitra
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
बरगद पीपल नीम तरु
बरगद पीपल नीम तरु
लक्ष्मी सिंह
भारत की सेना
भारत की सेना
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-561💐
💐प्रेम कौतुक-561💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आसमान को उड़ने चले,
आसमान को उड़ने चले,
Buddha Prakash
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
रामनवमी
रामनवमी
Ram Krishan Rastogi
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mukesh Kumar Sonkar
*दिल चाहता है*
*दिल चाहता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*रामचरितमानस में गूढ़ अध्यात्म-तत्व*
*रामचरितमानस में गूढ़ अध्यात्म-तत्व*
Ravi Prakash
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
*Author प्रणय प्रभात*
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Sakshi Tripathi
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
"संवेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
बहुत प्यार करती है वो सबसे
बहुत प्यार करती है वो सबसे
Surinder blackpen
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
Ranjeet kumar patre
"वचन देती हूँ"
Ekta chitrangini
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
Dr. Man Mohan Krishna
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
Suryakant Dwivedi
Loading...