Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

आखिरी मोहब्बत

कभी तो तुम भी बहाने से बात करो ꫰
हमसे तुम मिलने की बात करो ꫰꫰

रखो हाथ यूँ ही अपने चेहरे पर ꫰
आँखों से ही अपने दिल की बात करो ꫰꫰

मुझसे तुम सुनो सारी शाएरी तुम्हारी ꫰
यार गले से लगा कर मोहब्बत की बात करो ꫰꫰

तुम-सा, सच्ची, हैं नहीं, खूबसूरत कोई ꫰
मुझसे तुम बस अपनी ही बात करो ꫰꫰

लो खा ली यार कसम भी अब खु़दा की ꫰
खु़दा से भी कहो, केे बस तुम्हारी ही बात करो ꫰꫰

केे अब अधूरा लगता हैं “जय” भी तुम बिन ꫰
हाँ तुम बस यूँ “अपनी” बात करो ꫰꫰

और लगता हैं ये आखिरी मोहब्बत हैं हमारी ꫰
उसके बाद, यार तुम, बस मरने की बात करो ꫰꫰

41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
शेखर सिंह
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
ये सूरज के तेवर सिखाते हैं कि,,
ये सूरज के तेवर सिखाते हैं कि,,
Shweta Soni
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
महाराणा सांगा
महाराणा सांगा
Ajay Shekhavat
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
पतग की परिणीति
पतग की परिणीति
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"बात अपनो से कर लिया कीजे।
*प्रणय प्रभात*
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
मौत का डर
मौत का डर
अनिल "आदर्श"
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
2825. *पूर्णिका*
2825. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
दिल नहीं ऐतबार
दिल नहीं ऐतबार
Dr fauzia Naseem shad
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
लड़कियों को विजेता इसलिए घोषित कर देना क्योंकि वह बहुत खूबसू
लड़कियों को विजेता इसलिए घोषित कर देना क्योंकि वह बहुत खूबसू
Rj Anand Prajapati
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
माँ की अभिलाषा 🙏
माँ की अभिलाषा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
कठोर व कोमल
कठोर व कोमल
surenderpal vaidya
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
कोठरी
कोठरी
Punam Pande
Loading...