Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2018 · 2 min read

आखिरी पड़ाव

वो क्या जिंदगी-२ है ? जो किसी के ओठों पर मुस्कान न ला सके,
मालिक के अनमोल नूर को जहाँ में जरूरतमंदो को न बाँट सके I

अब क्यों ?जिंदगी का आखिरी पड़ाव देखकर मन विचलित हो रहा ,
कोई न रह गया रहनुमा न हमसफ़र , मन भी तेरा संकुचित हो रहा ,
फूलों की बगिया में आखिर “प्यार की खुसबू” से क्यों वंचित हो रहा ?
मरूस्थल में थके हुए पथिक की तरह तेरा मन व्यथित क्यों हो रहा ?

वो क्या जिंदगी-२ है ? जो किसी के ओठों पर मुस्कान न ला सके,
मालिक के अनमोल नूर को जहाँ में जरूरतमंदो को न बाँट सके I

लाचार- बेबस की भूख से कभी तुझे बेहाल होते नहीं देखा ,
गरीब- मजलूमों के आंसुओं में तुझे निहाल होते हमने देखा ,
नफरत के सौदागरों से तुझे सवाल करते नहीं हमने देखा,
बेटियों के “ अस्मत के लुटेरों” से तुझे प्यार करते हुए देखा I

वो क्या जिंदगी-२ है ? जो किसी के ओठों पर मुस्कान न ला सके,
मालिक के अनमोल नूर को इस जहाँ में जरूरतमंदो को न बाँट सके I

“मेरे मालिक” ने तुझे हर मोड़ पर प्यार का रास्ता दिखाया ,
लेकिन तुझे नफरत का रास्ता बहुत ही आसान नज़र आया ,
इंसानियत की किताब को तार-२ करने में तुझे मज़ा आया ,
आखिरी पड़ाव की तरफ कदम बढ़ाकर मन क्यों घबराया ?

वो क्या जिंदगी-२ है ? जो किसी के ओठों पर मुस्कान न ला सके,
मालिक के अनमोल नूर को इस जहाँ में जरूरतमंदो को न बाँट सकेI

मत घबड़ा “ राज ” हर किसी को इस गुलिस्तां से है जाना,
“इंसानियत का दीपक” बुझाकर अपना घरोंदा न सजाना,
जग के मालिक का खौफ दिल में रखकर अपने को बढ़ाना,
“प्रेम का दीपक” जलाकर ही आखिरी पड़ाव पर कदम बढ़ाना I

वो क्या जिंदगी-२ है ? जो किसी के ओठों पर मुस्कान न ला सके,
मालिक के अनमोल नूर को इस जहाँ में जरूरतमंदो को न बाँट सके I
****************

देशराज “राज”

2 Likes · 783 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
खिड़की के बाहर दिखती पहाड़ी
खिड़की के बाहर दिखती पहाड़ी
Awadhesh Singh
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपने आँसू
अपने आँसू
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
खुशहाल ज़िंदगी की सबसे ज़रूरी क्रिया-
खुशहाल ज़िंदगी की सबसे ज़रूरी क्रिया-"शूक्रिया।"
*प्रणय प्रभात*
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
Kanchan Alok Malu
42 °C
42 °C
शेखर सिंह
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
कोशिश
कोशिश
Dr fauzia Naseem shad
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Ram Krishan Rastogi
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
VINOD CHAUHAN
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
कोई भी इतना व्यस्त नहीं होता कि उसके पास वह सब करने के लिए प
कोई भी इतना व्यस्त नहीं होता कि उसके पास वह सब करने के लिए प
पूर्वार्थ
" *लम्हों में सिमटी जिंदगी* ""
सुनीलानंद महंत
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
*नई मुलाकात *
*नई मुलाकात *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*लम्हा  प्यारा सा पल में  गुजर जाएगा*
*लम्हा प्यारा सा पल में गुजर जाएगा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Even if you stand
Even if you stand
Dhriti Mishra
दहन
दहन
Shyam Sundar Subramanian
"कोशिशो के भी सपने होते हैं"
Ekta chitrangini
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
"सहर देना"
Dr. Kishan tandon kranti
पागल
पागल
Sushil chauhan
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
Loading...