Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

आक्रोश प्रेम का

अटल इरादा रख मून म
पटल पर देख क्यों खामोश बनी?
इसी विचार पर रख मन को
नकल कर सका फिर क्यों आक्रोश था ?

लिखी अपनी कलम से तेरे मन को
सोच रहा था एकान्त में क्यो संकोच था?

याद किसी की खासम खास थी
मै रोज उसी डाल से फुल तोडता
उस डाल से जिसमें कांटों का जुगाड़ था।

फुल तोड़ता उसी दाल से
जिस डाल के नीचे मेरी नाजुक कली सोती थी

कांटो से आग्रह कर फुल फुल की खातिर कांटों के बीच
रिस्क लेता था।

प्यार है मन में उसके खातिर पता नही
डाल सूनी थी बिगेर उसके आज शातिर बना नही

फिर वो मुझसे क्यो आश बनी निगाहो की
वो सदा सदा परवाज बनी

Language: Hindi
23 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
2395.पूर्णिका
2395.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ख़ुश रहना है
ख़ुश रहना है
Monika Arora
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
'अशांत' शेखर
मंज़िल को पाने के लिए साथ
मंज़िल को पाने के लिए साथ
DrLakshman Jha Parimal
कुण्डलिया
कुण्डलिया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
Omee Bhargava
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
Akash Agam
दृष्टिबाधित भले हूँ
दृष्टिबाधित भले हूँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
आकाश
आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
जी करता है...
जी करता है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिनकर शांत हो
दिनकर शांत हो
भरत कुमार सोलंकी
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
--एक दिन की भेड़चाल--
--एक दिन की भेड़चाल--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जज्बात
जज्बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गले लगाना पड़ता है
गले लगाना पड़ता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
अबके रंग लगाना है
अबके रंग लगाना है
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
Dr MusafiR BaithA
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
Manoj Mahato
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
Loading...