Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2022 · 1 min read

“आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान”

आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
भारत माँ के गान,
स्वर्ण मुकुट मस्तक पर भाता,
चरणों में सागर लहराता,
मलय पवन इसको महकाता,
सबसे प्यारा जग का तारा,
भारत देश महान,
आओ हम सब मिल कर गाएँ, भारत माँ के गान।
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई
कहलाते जहाँ भाई-भाई, बस्ती जिसमें सबकी जान, वो है मेरा प्यारा भारत देश महान,
आओ हम सब मिल कर गएँ,
भारत माँ के गान।।

“लोहित टम्टा”

9 Likes · 4 Comments · 463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
दीदार
दीदार
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
हँस रहे थे कल तलक जो...
हँस रहे थे कल तलक जो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
Ranjeet kumar patre
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
जिंदगी कि सच्चाई
जिंदगी कि सच्चाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Aaj Aankhe nam Hain,🥹
Aaj Aankhe nam Hain,🥹
SPK Sachin Lodhi
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
सुरमई शाम का उजाला है
सुरमई शाम का उजाला है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
Harminder Kaur
✍️ D. K 27 june 2023
✍️ D. K 27 june 2023
The_dk_poetry
2379.पूर्णिका
2379.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
याद रखेंगे सतत चेतना, बनकर राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
Ravi Prakash
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
पूर्वार्थ
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
"करिए ऐसे वार"
Dr. Kishan tandon kranti
*तेरी मेरी कहानी*
*तेरी मेरी कहानी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जुनून
जुनून
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...