Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2023 · 1 min read

आओ बुद्ध की ओर चलें

अब आओ बुद्ध की ओर चलें
हम आओ बुद्ध की ओर चलें…
(१)
जात-पात और ऊंच-नीच की
छुआछूत और भेदभाव की
सारी जंजीरों को तोड़ चलें
हम आओ बुद्ध की ओर चलें…
(२)
आडंबरों और पाखंडों से
कुरीतियों और कर्मकांडों से
इस देश के रूख को मोड़ चलें
हम आओ बुद्ध की ओर चलें…
(३)
जिनमें हमें ठोकरों (जिल्लत) के सिवा
सदियों तक और कुछ न मिला
ये अंधी गलियां छोड़ चलें
हम आओ बुद्ध की ओर चलें…
(४)
शांति, सत्य और अहिंसा की
प्रज्ञा, शील और करुणा की
थामे हुए एक डोर चलें
हम आओ बुद्ध की ओर चलें…
(५)
बुद्धम शरणं गच्छामि
धम्मम शरणं गच्छामि
संघम शरणं गच्छामि
अप्प दीपो भव…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#हल्ला_बोल #गीत #इंसाफ #Buddha
#buddhism #dhamma #lyrics
#conversion #Lyricist #बौद्ध #धम्म #bollywood #जातिवाद #मनुवाद #हक
#दलित #आदिवासी #पिछड़ा #बहुजन

Language: Hindi
Tag: गीत
284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देखना हमको फिर नहीं भाता
देखना हमको फिर नहीं भाता
Dr fauzia Naseem shad
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
■सीखने योग्य■
■सीखने योग्य■
*Author प्रणय प्रभात*
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
Ram Krishan Rastogi
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
Neelam Sharma
जो ना होना था
जो ना होना था
shabina. Naaz
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
आकाश के नीचे
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
जपू नित राधा - राधा नाम
जपू नित राधा - राधा नाम
Basant Bhagawan Roy
ऐ मोनाल तूॅ आ
ऐ मोनाल तूॅ आ
Mohan Pandey
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
Shubham Pandey (S P)
💐प्रेम कौतुक-412💐
💐प्रेम कौतुक-412💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आइये झांकते हैं कुछ अतीत में
आइये झांकते हैं कुछ अतीत में
Atul "Krishn"
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
Babli Jha
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ Rãthí
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
कवि रमेशराज
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...