Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

आओ नया निर्माण करें

एक साथ सब रहे हिल मिल
एक साथ सब काम करें।
एक साथ सब हिल मिलकर
आओ नया निर्माण करें।

आपस में ना हो द्वन्द्व हम में।
न आपस में बेर भर।
सुख दुख का हो साथ सभी में।
और आपस में प्रेम भर।
अपने ,अपने हैं, नहीं पराए
एक यही संदेश धरे।
एक साथ सब हिल मिलकर
आओ नया निर्माण करें।

पूरब – पश्चिम, उत्तर – दक्षिण
चारों दिशाएँ गूंजे स्वर।
प्रेम- रस से भरा हृदय हो
वाणी में मिठास भर।
आपस की कटुता को भूलकर
एक नया आधार धरे।
एक साथ सब हिल मिलकर
आओ नया निर्माण करें।

आत्मनिर्भर बने राष्ट्र अब
सपना साकार करना है।
भारत देश के नौजवान हम
देश हमें सँवारना है।
नए विकास और आयाम तक
जाने का संकल्प करें।
एक साथ सब हिल मिलकर
आओ नया निर्माण करें।

दरिद्रता और लाचारी को
दूर हमें अब करना है।
दीन दुखी अपने बंधु को
खुशियों से अब भरना है।
कोई ना भूखा रह पाए
सबके घरों अन्न भरे।
एक साथ सब हिल मिलकर
आओ नया निर्माण करें।

-विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
Anil chobisa
मैं नहीं मधु का उपासक
मैं नहीं मधु का उपासक
नवीन जोशी 'नवल'
3032.*पूर्णिका*
3032.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हया
हया
sushil sarna
"भीमसार"
Dushyant Kumar
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
AMC (आर्मी) का PAY PARADE 1972 -2002” {संस्मरण -फौजी दर्शन}
AMC (आर्मी) का PAY PARADE 1972 -2002” {संस्मरण -फौजी दर्शन}
DrLakshman Jha Parimal
"दलबदलू"
Dr. Kishan tandon kranti
तू है
तू है
Satish Srijan
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
अपनी भूल स्वीकार करें वो
अपनी भूल स्वीकार करें वो
gurudeenverma198
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
मुक्ति मिली सारंग से,
मुक्ति मिली सारंग से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शांति से खाओ और खिलाओ
शांति से खाओ और खिलाओ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
Shashi kala vyas
सारा रा रा
सारा रा रा
Sanjay ' शून्य'
पल पल का अस्तित्व
पल पल का अस्तित्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
హాస్య కవిత
హాస్య కవిత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
Sonam Puneet Dubey
न बीत गई ना बात गई
न बीत गई ना बात गई
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
नाम इंसानियत का
नाम इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...