Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*

आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)
—————————————-
आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है
1
गुनगुन करती धूप गुनगुनी, मंत्रमुग्ध कर जाती
अल्हड़ पवन चल रही मादक, चंचलता भर जाती
इठलाती ज्यों धरा आज, नवनिधि को पाया है
2
मन में है उल्लास, रंग वासंती छटा बिखेरे
चित्रकार ने इंद्रधनुष-से, नूतन चित्र उकेरे
अंग-अंग में थिरकन का, आनंद समाया है
3
हृदय-हृदय से करता बातें, भरे प्रेम की बोली
नाच रही है गली-गली, कलियों-फूलों की टोली
समय साध कर ऋतु ने फिर, त्यौहार मनाया है
आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है
————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
1🌹सतत - सृजन🌹
1🌹सतत - सृजन🌹
Dr Shweta sood
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फ़ब्तियां
फ़ब्तियां
Shivkumar Bilagrami
बाढ़
बाढ़
Dr.Pratibha Prakash
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
Ravi Prakash
जो रोज समय पर उगता है
जो रोज समय पर उगता है
Shweta Soni
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
अल्फाज (कविता)
अल्फाज (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
Monika Verma
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
कवि दीपक बवेजा
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
Anil chobisa
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
Chunnu Lal Gupta
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
अ ज़िन्दगी तू ही बता..!!
अ ज़िन्दगी तू ही बता..!!
Rachana
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
प्रेम अंधा होता है मां बाप नहीं
प्रेम अंधा होता है मां बाप नहीं
Manoj Mahato
Loading...